पहली बार सामने आया सुपारी किलर का चेहरा, ठेके में करता था मर्डर, सौदा तय होने के कुछ क्षण में कर देता था काम

मामले में प्रेमिका को रास्ते से हटाने के लिए एक ठेकेदार ने सुपारी किलर का सहारा लिया था। प्रेमी ने 1 लाख में सौदा कर प्रेमिका को मारने सुपारी किलर (contract killer) को ठेका दिया था। बताया गया कि किलर इतना शातिर था कि कभी किसी ने उसका हुलिया तक नहीं देखा था।

अंबिकापुर (ambikapur)। पुलिस को एक ऐसे सुपारी कीलर (betel nut killer) को पकड़ने () में सफलता मिली है जिसका चेहरा आज तक किसी ने नहीं देखा था। खतरनाक (Dangerous) इतना कि सौदा तय होने के कुछ घंटे के अंदर वह सामने वाले का कत्ल कर गायब हो जाता है। ऐसे ही एक मामले में पुलिस (police) को मर्डर (murder) ठेकेदार को पकड़ने में डेढ़ साल लग गए।

मामले में प्रेमिका (lover) को रास्ते से हटाने के लिए एक ठेकेदार ने सुपारी किलर का सहारा लिया था। प्रेमी ने 1 लाख में सौदा (deal) कर प्रेमिका को मारने सुपारी किलर (contract killer) को ठेका दिया था। बताया गया कि किलर इतना शातिर था कि कभी किसी ने उसका हुलिया तक नहीं देखा था। वह इतना खरनाक था कुछ ही समय में वह काम तमाम कर गायब हो जाता था। पुलिस को उसका कोई सुराग (clue) नहीं मिलता था।

एक लाख लेकर गला दबाकर की थी हत्या
घटना के लगभग डेढ़ बाद कॉन्ट्रैक्ट किलिंग के मामले में सरगुजा पुलिस को बड़ी सफलता मिल पाई। पुलिस के अनुसार ठेकेदार प्रेमी ने किलर से प्रेमिका की हत्या कराई थी। सुपारी किलर से एक लाख रुपये लेकर महिला की गला दबाकर हत्या की थी। पुलिस ने मामले में लगभग डेढ़ साल बाद आरोपी सहित दो लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस विभाग ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दुर्दांत खतरनाक अपराधी को सुरक्षा बल के साथ उनका चेहरा सामने लाया।

मई 2020 की घटना
पुलिस के अनुसार हत्या की पूरी कहानी मई 2020 की है। मामले में लुण्ड्रा, सेमरपारा (Lundra, Semarpara) में एक पुराने आरईएस के भवन में रहने वाली महिला सुषमा पैकरा पति अरुण सिंह (30 वर्ष) का शव बिस्तर में पड़ा मिला था। मामले में थाना लुण्ड्रा में मर्ग कायम कर विवेचना में लिया गया था। पर लंबे समय तक इस घटना का कोई सुराग नहीं मिल पाया था।

नए सिरे से जांच शुरू कर फोन सर्विलांस में रखा गया
जिला सरगुजा (District Surguja) में पुलिस महानिरीक्षक (Inspector General of Police) व पुलिस अधीक्षक (Police Officer) ने प्रकरण की नये सिरे से जांच के लिए एएसपी के नेतृत्व में टीम गठित कर आरोपी की घर-पकड़ के लिए योजना बनाई गई। घटना स्थल निरीक्षण के दौरान तत्कालीन जांच अधिकारियों को मृतिका का मोबाईल फोन प्राप्त नहीं हुआ था। इस ओर ध्यान केंद्रित करते हुए पहले मोबाईल फोन को साइबर सेल सरगुजा के माध्यम से सर्विलांस में रखा गया।

आरोपियों तक फोन ने पहुंचाया
मामले में इसके अतिरिक्त मुख्य संदेही अमित सिंह जो कि मृतिका का प्रेमी था, पर भी नजर रखी जा रही थी। इसी बीच साइबर सेल से जानकारी प्राप्त हुई कि ग्राम लुण्ड्रा के एक व्यक्ति दिनेश भुईहर के द्वारा मृतिका का मोबाईल इस्तेमाल किया जा रहा है, जिस पर उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की गई।

रात पीछे से घर में घुसा और टकिए से गला दबा दिया
पूछताछ में संदेही दिनेश भुईहर ने बताया कि अमित सिंह का मृतिका सुषमा के साथ अवैध संबंध था। मृतिका अमित सिंह के उपर शादी का दबाव डाल रही थी, जिस कारण मुख्य आरोपी अमित सिंह के द्वारा मृतिका को अपने रास्ते से हटाने के लिए एक सोची-समझी रणनीति के तहत मर्डर का प्लान बनाया गया था। उसके बाद प्रेमी ने दिनेश भुईहर से एक लाख रुपए देने का लालच देकर मृतिका को मारने के लिए कॉन्ट्रैक्ट किया। उसके बाद दिनेश भुईहर ने 31 मई 2020 की रात को मृतिका के घर के पीछे दरवाजे से अंदर घुसा। उसके बाद आरोपी ने तकिए का सहारा (pillow support) लेकर मृतिका (deceased) का मुंह व गला (mouth and throat) दबाकर हत्या (suffocating) कर दी।

आरोपी तक पहुंचने में इनका रहा योगदान
ये अभी और कितने मामले में संलग्न है पूछताछ की जा रही है। प्रकरण के आरोपी दिनेश भुईहर एवं अमित सिंह को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमाण्ड पर जेल भेजा गया है। पूरी कार्यवाही में उप पुलिस अधीक्षक ईमानुएल लकड़ा, थाना लुण्ड्रा प्रभारी निरीक्षक दिलबाग सिंह का योगदान रहा।

(TNS)