श्रृजन की नई पहल: खेल विकास प्राधिकरण का कमाल, खिलाड़ियों में पारंपरिक खेलों के प्रति बढ़ा रूझान

सीएम बघेल और खेल एवं युवा कल्याण मंत्री उमेश पटेल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ में पिछले तीन वर्षों में खेल अधोसंरचना और विभिन्न खेल सुविधाओं की बढ़ोतरी के लिए अनेक कार्य किए गए हैं।

 

रायपुर। युवा उत्सव के दौरान राजधानी सहित प्रदेशभर में पारंपरिक खेलों का भी आयोजन किया जाता है। इसी के तहत छत्तीसगढ़ में खेलों के प्रति युवाओं में उत्साह जगाने के लिए ‘‘खेलबो जीतबो गढ़बो नवा छत्तीसगढ़‘‘ नारा दिया है।

राज्य में खेलों के विकास और विभिन्न खेल अकादमिक इकाइयों में समन्वय के लिए छत्तीसगढ़ खेल विकास प्राधिकरण का गठन किया गया है। इससे अंतर्राष्ट्रीय स्तर की नई खेल सुविधाएं विकसित की जा रही है इससे युवाओं में खेलों के प्रति रूझान बढ़ा है।

पारंपरिक खेल भौंरा, गेड़ी दौड़, फुगड़ी
राज्य सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ के पारंपरिक खेल भौंरा, गेड़ी दौड़ और फुगड़ी सहित अन्य खेलों को भी बढ़ावा दिया जा रहा है। युवा उत्सव के दौरान प्रदेश की राजधानी सहित जिलों में पारंपरिक खेलों का भी आयोजन किया जाता है। सीएम बघेल और खेल एवं युवा कल्याण मंत्री उमेश पटेल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ में पिछले तीन वर्षों में खेल अधोसंरचना और विभिन्न खेल सुविधाओं की बढ़ोतरी के लिए अनेक कार्य किए गए हैं।

एथलेटिक्स, आर्चरी एवं हॉकी के लिए आवासीय प्रशिक्षण
बिलासपुर के बहतराई में स्वर्गीय बीआर यादव के नाम से संचालित खेल अकादमी में एथलेटिक्स, आर्चरी एवं हॉकी के लिए आवासीय प्रशिक्षण की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। रायपुर में सरदार वल्लभभाई पटेल अंतराष्ट्रीय हॉकी स्टेडियम परिसर में स्वर्गीय कोदुराम वर्मा धनुर्विधा आवासीय अकादमी की स्थापना की गई है। दोंनों अकादमी में खिलाड़ियों को निःशुल्क भोजन, खेल प्रशिक्षण, छात्रवृत्ति एवं बीमा के साथ-साथ शिक्षा की भी व्यवस्था की जाएगी। इन आकदमियों के लिए खिलाड़ियों के साथ अन्य कर्मचारियों की भर्ती की जा रही है।

रायपुर में बालक-बालिका एथलेटिक अकादमी तैयार
इसी तरह रायपुर के स्वामी विवेकानंद स्टेडियम में गैर आवासीय बालिका फुटबाल अकादमी एवं गैर अवासीय बालक-बालिका एथलेटिक अकादमी तैयार की गई है। टेनिस खेल के लिए राज्य मंे बेहतर सुविधा विकसित हो इसके लिए लाभांडी रायपुर मंे अंतर्राष्ट्रीय स्तर के टेनिस स्टेडियम एवं अकादमी का निर्माण किया जा रहा है। इसके लिए 17 करोड़ 75 लाख से अधिक की राशि स्वीकृत की जा चुकी है।

यहां अंतराष्ट्रीय स्तर के हाकी स्टेडियम तैयार
खेलों को प्रोत्साहित करने के तहत राज्य में रायपुर, बिलासपुर राजनांदगांव और जशपुर में अंतराष्ट्रीय स्तर के हाकी स्टेडियम बन कर तैयार है। खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री प्रोत्साहन योजना अंतर्गत एक करोड़ रुपए की प्रोत्साहन राशि का प्रावधान है। विभागीय मान्यता प्राप्त खेल संघ एवं संस्थाओं को खेलों के विकास के लिए पिछले सत्र 2020-21 में एक करोड़ 30 लाख की आर्थिक सहायता प्रदान की गई है।

दुर्ग जिले में जुडो अकादमी भवन निर्माण की स्वीकृति
इसी तरह वर्ष 2021-22 में नवंबर माह तक लगभग 60 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी जा चुकी है। दुर्ग जिले में जुडो अकादमी भवन निर्माण की स्वीकृति भी दी गई है। महासमुंद में 6 करोड़ 60 लाख की लागत से सिंथेटिक एथलेटिक्स ट्रैक निर्माण, अंबिकापुर में 4 करोड़ 50 लाख की लागत से बनने वाली मल्टीपरपज इण्डोर हाल के निर्माण की स्वीकृति एवं बस्तर के इंदिरा प्रियदर्शनी स्टेडियम में 5 करोड़ की लागत से निर्मित होने वाली सिंथेटिक टर्फ फुटबाल मैदान गाथ की रनिंग ट्रेक निर्माण की स्वीकृति भारत सरकार से मिल चुकी है।

(TNS)