तखतपुर में अपहृत छात्र को पुलिस ने छुड़ाया, 10 लाख की मांगी थी फिरौती

बिलासपुर। तखतपुर थाना क्षेत्र (Takhatpur police station area) में अपहृत (kidnapped) स्कूली बच्चे को पुलिस ने छुड़ा लिया है। पकड़े गए तीन आरोपी छात्र के गांव के परिचित हैं और गांव के ही हैं। उन्होंने फिरौती की लालच में आकर छात्र को अगवा किया था।

जानकारी के अनुसार तखतपुर के रहने वाले शशिकांत पांडेय (Shashikant Pandey) का 15 वर्षीय बेटा हिमालया पांडेय 9वीं कक्षा का छात्र है। रोज की तरह मंगलवार सुबह 10 बजे भी वह ट्यूशन के लिए निकला था। इसके बाद वह घर नहीं लौटा। वह 11:30 बजे घर आ जाता था। पर मंगलवार को हिमालया शाम 4 बजे तक घर नहीं पहुंचा। इस बीच शशिकांत के मोबाइल पर अनजान नंबर से कॉल आया। फोन करने वाले ने उनके बेटे का अपहरण करने और 10 लाख रुपए फिरौती देने की मांग की।

पैसे नहीं देने पर हिमालया को जान से मारने की धमकी भी दी गई। इससे भयभीत शशिकांत ने पुलिस को सूचना दी। छात्र के अपहरण की जानकारी एसपी दीपक झा (SP Deepak Jha) को दी गई। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज की जांच करने के साथ ही साइबर सेल की मदद से अपहरणकर्ताओं का लोकेशन ट्रेस करना शुरू किया। करीब दो घंटे के बाद पुलिस ने अपहृत बालक को सुरक्षित हासिल कर लिया। साथ ही राममंगल यादव, सुरेंद्र रजक, घनश्याम यादव, जगदीश पटेल, कान्हा, सोमराज पटेल और एक अन्य नाबालिग को गिरफ्तार किया।

10 लाख रुपए की मांगी थी फिरौती
आईजी रतनलाल डांगी (IG Ratanlal Dangi) व एसपी दीपक झा (SP Deepak Jha) ने बताया कि अपहरणकर्ताओं ने छात्र को सकरी क्षेत्र के ग्राम सैदा में एक सूनसान जगह पर निर्माणाधीन मकान में बंधक बनाकर रखा था। वहीं से बंधक बनाकर 10 लाख रुपए फिरौती की मांग की जा रही थी। आईजी रतनलाल डांगी ने पुलिस टीम को पुरस्कृत करने की घोषणा की है।
(TNS)