कवर्धा में आज समाज के प्रमुख लोग निकालेंगे शांति मार्च, कई बड़े नेताओं पर एफआईआर भी

कवर्धा में शांति मार्च

कवर्धा। शहर में तीन दिनों से जारी उपद्रव को शांत करके सामाजिक सौहार्द कायम करने के लिए सामाजिक संगठनों (Social Organizations) के प्रमुखों ने आगे बढ़ कर मोर्चा संभाल लिया। इसी क्रम में आज सर्व समाज प्रमुखों, जिला प्रशासन ( District Administration), व्यापारी संगठन (Business Organization)और मीडिया (Media) प्रतिनिधियों द्वारा शांति मार्च (Peace March) निकाला जाएगा। एक दिन पहले कवर्धा (Kawardha) कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा (Ramesh Kumar Sharma) की अध्यक्षता में सर्व समाज प्रमुखों, कवर्धा चेंबर ऑफ कामर्स और व्यापारी संगठनों की बैठक में यह फैसला लिया गया। इसमें 5 अक्टूबर को चक्काजाम के बाद शहर के विभिन्न वार्डों में उपद्रव, तोड़फोड़, उग्र प्रदर्शन और सामाजिक सौहार्द खराब करने की घटना की कड़ी निंदा की गई। साथ ही हिंसा में शामिल दोनों पक्षों के लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की गई।

दरअसल, भविष्य में इस तरह की घटनाओं को रोकने और दोनों पक्षों को समझाने के लिए कवर्धा नगर पालिका के 27 वार्डों के लिए अलग-अलग 9 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल का गठन किया जाएगा। इसमें विभिन्न समाज प्रमुखों के साथ जिला प्रशासन और पुलिस के अधिकारी शामिल होंगे। प्रतिनिधिमंडल वार्डों में जाकर दोनों पक्षों को समझाइश देगा।

इधर, अशांति फैलाने सांसद संतोष पांडेय, अभिषेक सिंह समेत 14 के खिलाफ एफआईआर
कवर्धा में कानून-व्यवस्था बिगड़ने व हिंसा के मामले में अब भाजपा के बड़े नेताओं के नाम भी एफआईआर की कॉपी में जोड़ दी गई है। इन नेताओं में राजनांदगांव-कवर्धा लोकसभा क्षेत्र के सांसद संतोष पांडेय, पूर्व सांसद व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के पुत्र अभिषेक सिंह, पूर्व विधायक मोतीराम चंद्रवंशी, अशोक साहू, भाजपा प्रदेश मंत्री विजय शर्मा, विहिप के जिला प्रमुख नंदलाल चंद्राकर, भाजपा जिलाध्यक्ष अनिल सिंह, भाजयुमो जिलाध्यक्ष पीयूष ठाकुर समेत वरिष्ठ नेता कैलाश चंद्रवंशी, राजेन्द्र चंद्रवंशी, पन्ना चंद्रवंशी, उमंग पांडेय, राहुल चौरसिया, भुनेश्वर चंद्राकर के नाम शामिल हैं।

TNS