रायपुर कलेक्टर ने जारी किया आदेश, शहर के अंदर से नहीं चलेंगी बसें, भाटागांव जाना पड़ेगा

रायपुर। राजधानी में अब शहरी क्षेत्र में बसों को चलने की अनुमति को रायपुर कलेक्टर सौरभ कुमार ने खत्म कर दिया है। आगामी 15 नवंबर से राजधानी रायपुर के अंदर से बसों की आवाजाही नहीं हो सकेगी। अब सभी बसें रिंग रोड होते हुए भाटागांव में बने नए अंतरराज्यीय बस स्टैंड से रवाना की जाएंगी। इसके लिए रायपुर कलेक्टर सौरभ कुमार ने बाकायदा आदेश भी जारी कर दिया है। पंडरी बस स्टैंड से चलने वाली बसों को अंतरराज्यीय बस टर्मिनल भाटागांव में शिफ्ट करने की तैयारी पूरी हो चुकी है। इसके लिए बीते बुधवार को भाटागांव बस टर्मिनल में बसों का ट्रायल रन भी किया गया था।

इस दौरान करीब 60-70 की संख्या में बसों को यहां से चलाकर यातायात पर होने वाले असर को देखने के लिए उसकी वीडियोग्राफी भी अधिकारियों ने कराई थी। इस दौरान जिला प्रशासन, परिवहन और नगर निगम के अधिकारी सहित बस संचालक वहां मौजूद थे। क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी शैलाभ साहू ने बताया कि ट्रायल रन के दौरान यातायात संबंधी बातों का विशेष रूप से आकलन किया गया। बसों की शहर के बाहर से आवाजाही होने की वजह से यातायात पर पड़ने वाले दबाव के कम होने के संबंधी व्यवस्थाओं के बारे में बारीकी से नजर रखी गई।

बताते चलें कि कलेक्टर सौरभ कुमार के द्वारा जारी किए गए आदेश के अनुसार यात्री ऑटो या टैक्सी के जरिए शहर के अंदर अलग-अलग इलाकों में जा सकेंगे। शहर के भीतर स्थित पंडरी बस स्टैंड की जगह सभी बसें भाटागांव बस स्टैंड से ही रवाना होंगी। शहर में इन्हें प्रवेश नहीं दिया जाएगा। आदेश में आगे कहा है कि शहर के भीतर सिटी बस और स्कूल बस चल सकेंगी। शहर के भीतर अब यात्री बसों को चलाने की अनुमति नहीं होगी। 15 नवंबर से पूरी तरह बसों का संचालन नए बस स्टैंड से ही किया जाएगा। पुराने बस स्टैंड से बसों और दुकानों को हटाने के निर्देश दिए जा चुके हैं। सोमवार से नगर निगम पुराने बस स्टैंड को हटाने का काम शुरू कर देगा।