कोंडागांव में पोस्टमास्टर ने फर्जी हस्ताक्षर कर दो खातों से निकाले छह लाख रुपये, हुआ गिरफ्तार

कोंडागांव। लोग अपनी गाढ़ी कमाई को बैंक या पोस्ट ऑफिस में जमा करते हैं, ताकि मुश्किल समय में उनकी बचत की राशि उनके काम आ सके। मगर, यदि वहां काम करने वाले कर्मचारियों की नीयत खराब हो, तो पैसों को आखिर कहां जमा किया जाए। ताजा मामला छत्तीसगढ़ के कोंडागांव जिले का है, जहां एक पोस्टमास्टर ने फर्जी हस्ताक्षर कर पोस्ट ऑफिस के दो खाता धारकों के छह लाख रुपए निकालकर गबन किया है।

मामले का पता वारदात को अंजाम देने के चार साल बाद चला। शिकायत के बाद आरोपी पोस्ट मास्टर को गिरफ्तार कर लिया गया और उसे कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया है। पुलिस ने बताया कि कांकेर जिले के भानुप्रतापपुर के संबलपुर का रहने वाला सुनील कुंभकार (46) कोंडागांव के विश्रामपुरी के उप डाक घर में पिछले कई सालों से पदस्थ है।

इस इसी पोस्ट ऑफिस के खाता धारक जेएल साहू और बीएल ध्रुव कुछ दिनों पहले अपने खाते से पैसा निकालने पोस्ट ऑफिस पहुंचे, तो उन्हें पता चला कि उनके अकाउंट में बैलेंस ही नहीं है। यह सुनकर उनके पैरों तले जमीन खिसक गई।उन्होंने जब जानकारी मांगी, तो दस्तावेज देखने के बाद पता चला कि साल 2018 में उनके खातों से पैसे निकाल लिए गए हैं।

यह जानकारी मिलने के बाद दोनों खाताधारकों ने मामले की शिकायत विश्रामपुरी थाने में की। शिकायत के बाद पुलिस मामले की जांच में जुट गई। इसी दौरान पता चला कि खुद पोस्ट मास्टर ने जेएल साहू और बीएल ध्रुव का फर्जी हस्ताक्षर कर रकम निकाल ली थी। एक खाते से 3.50 लाख रुपए और दूसरे खाते से 2.50 लाख रुपए पोस्ट मास्टर ने निकाल लिए थे। इसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया। पुलिस यह भी जांच कर रही है कि क्या उसने ऐसा अन्य खातों के साथ तो नहीं किया है।