जलवायु संबंधी खोजों के लिए इन देशों के तीन वैज्ञानिकों को भौतिकी का नोबेल पुरस्कार

नोबेल पुरस्कार

स्टॉकहोम। भौतकी (Physics) का नोबेल पुरस्कार ( Nobel Prize) जापान, जर्मनी और इटली के तीन वैज्ञानिकों को दिया जाएगा। रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज ( Royal Swedish Academy of Sciences) ने कहा कि जटिल भौतिक प्रणालियों की समझ में अभूतपूर्व योगदान के लिए संयुक्त रूप से इनको चुना है। जापान के स्यूकूरो मनाबे ( Tsukuro Manabe) और जर्मन वैज्ञानिक क्लॉस हैसलमैन (Klaus Hasselmann) को इस वर्ष का नोबेल दिया जाएगा। इन्होंने धरती के जलवायु का भौतिक मॉडल बनाया है, जिससे इसमें होने वाले बदलावों की सटीक निगरानी की जा सकती है। साथ ही ग्लोबल वार्मिंग का अनुमान लगाया जा सकता है।

पुरस्कार के दूसरे भाग के लिए इटली के वैज्ञानिक जॉर्जियो पारिसी (Georgio Parisi) को चुना गया है। उन्हें परमाणु से लेकर ग्रहों के मानदंडों तक भौतिक प्रणालियों में विकार और उतार-चढ़ाव की परस्पर क्रिया की खोज के लिए यह सम्मान मिलेगा। पुरस्कार राशि का आधा हिस्सा पारिसी को अकेले मिलेगा। बाकी में हैसलमैन और मनाबे को आधी-आधी राशि मिलेगी। रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज के महासचिव गोरन हैन्सन ने विजेताओं के नाम घोषित किए।

TNS