1971 में शहीद हुए जवान योगेश्वर की पत्नी का एनसीसी कै़डेट्स ने किया सम्मान

रायपुर। भारत की आजादी की 75वीं वर्षगांठ मनाने और 1971 के युद्ध के शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) द्वारा विजय श्रृंखला और संस्कृतियों का महा संगमकार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। ऐसा ही एक कार्यक्रम 8 सीजी गर्ल्स बटालियन एनसीसी, रायपुर द्वारा छत्तीसगढ़ ग्रुप मुख्यालय एनसीसी के तत्वावधान में आयोजित किया गया। एनसीसी ग्रुप छत्तीसगढ़ के कैडेटों ने बसना, महासमुंद के शहीद सिपाही योगेश्वर दास की पत्नी पंकजनी देवी का सरकारी हाई स्कूल (बसना) के प्राचार्य केसी साहू एवं तहसीलदार रामप्रसाद बघेल की उपस्थिति में सम्मान किया।

सिपाही योगेश्वर 20 नवंबर 1971 को जम्मूकश्मीर हुए थे शहीद

सिपाही योगेश्वर दास ने 20 नवंबर 1971 को जम्मूकश्मीर में सेवा करते हुए अपने प्राणों की आहुति दे दी। ब्रिगेडियर एके दास वीएसएम ग्रुप कमांडर एनसीसी ग्रुप मुख्यालय छत्तीसगढ़ की ओर से, एनसीसी कैडेट्स के साथ, कमान अधिकारी कर्नल आशीष बडोला द्वारा शहीद सिपाही योगेश्वर दास की पत्नी पंकजनी देवी को सम्मानित किया। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ एनसीसी के सभी 25 हजार कैडेट्स, अधिकारियों और अन्य रैंकधारियों की ओर से, कैडेटों ने 1971 के युद्ध के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की और राष्ट्र की निस्वार्थ सेवा करने का संकल्प लिया।

कमांडिंग ऑफिसर ने बताया कि इस साल हमारा देश आजादी के 75 साल और 1971 के युद्ध में पाकिस्तान पर भारत की जीत के 50 साल पूरे होने का जश्न मना रहा है। भारत की स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ मनाने के लिए एवम् आजादी का अमृत महोत्सवका हिस्सा बनने के लिए एन सी सी 28 नवंबर से 19 दिसंबर 2021 तक मेगा कार्यक्रम आयोजित कर रहा है। समारोह के दौरान देश भर में 75 विभिन्न स्थानों से 1971 के युद्ध के दिग्गजों एवम् निकटतम परिजनों को सम्मानित कर रहा है।

बतादें कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अहमदाबाद स्थित साबरमती आश्रम से ‘पदयात्रा’ (फ़्रीडम मार्च) को झंडी दिखाकर रवाना कर ‘आज़ादी का अमृत महोत्सव’ का शुभारंभ किया था। राष्ट्रीय कैडेट कोर देश के युवाओं का एक प्रमुख एकीकृत संगठन है जिसने अपनी स्थापना के बाद से राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। संगठन ने युवाओं के चरित्र को एक स्वरूप देकर और एनसीसी के प्रतिज्ञा वाक्य एकता और अनुशासन का प्रदर्शन कर लाखों युवाओं का जीवन परिवर्तित किया है। एनसीसी ने जल संरक्षण से लेकर पर्यावरण संरक्षण, डिजिटल जागरूकता और स्वच्छता अभियान समेत विभिन्न महत्वपूर्ण मुद्दों पर जनता के बीच जागरूकता फैलाने में प्रशंसनीय और उल्लेखनीय योगदान दिए हैं।