कोविड डेटा में धोखाधड़ी- पढ़ें कहां से हो गया नरेंद्र मोदी, प्रियंका चोपड़ा का फर्जी टीकाकरण

स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि पिछले 24 घंटों में 1,32,86,429 सत्रों के दौरान कुल 24,55,911 वैक्सीन खुराक दी गई हैं।

नई दिल्ली। बिहार के अरवल जिले में कोविड-19 डेटा फ्रॉड का एक मामला सामने आया है। यहां नरेंद्र मोदी, सोनिया गांधी, अमित शाह और प्रियंका चोपड़ा जैसी प्रमुख शख्सियतों के नाम कोविड के टीकाकरण वाले लोगों की सूची में शामिल किया गया है। राजद अरवल ने ट्विटर पर सूची पोस्ट की। बाद में हर जगह खबर फैलने के बाद स्थानीय प्रशासन ने दो डाटा आपरेटरों के खिलाफ कार्रवाई की।

Ad

अरवल के जिला मजिस्ट्रेट जे प्रियदर्शिनी ने कहा कि यह बहुत ही गंभीर मामला है। हम परीक्षण और टीकाकरण को तेज करने के लिए बहुत कोशिश कर रहे हैं। ऐसे में इस तरह की अनियमितताएं हो रही हैं। सिर्फ करपी में ही नहीं, हम सभी स्वास्थ्य केंद्रों को देखेंगे। एक प्राथमिकी दर्ज की जाएगी, हम कार्रवाई करेंगे और मानक तय करेंगे।

इस बीच, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा है कि भारत की पात्र वयस्क आबादी में से 85 प्रतिशत को कोविड-19 वैक्सीन की पहली डोज लगा दी गई है। एक और दिन, एक और मील का पत्थर। एक ट्वीट में उन्होंने कहा- 85 फीसद पात्र आबादी को कोविड -19 वैक्सीन की पहली खुराक के साथ टीका लगाया गया। पीएम नरेंद्र मोदी जी के ‘सबका प्रयास’ के मंत्र के साथ, भारत कोविड -19 के खिलाफ लड़ाई में मजबूती से आगे बढ़ रहा है। भारत की 50 प्रतिशत से अधिक योग्य वयस्क आबादी को भी दोनों खुराकों के साथ टीका लगाया गया है।

सोमवार सुबह अनंतिम रिपोर्ट के अनुसार, भारत का कोविड -19 टीकाकरण कवरेज 127.93 करोड़ से अधिक हो गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि पिछले 24 घंटों में 1,32,86,429 सत्रों के दौरान कुल 24,55,911 वैक्सीन खुराक दी गई हैं। देश में अब तक 60 वर्ष से अधिक आयु के कुल 11,69,97,622 लोगों को कोविड वैक्सीन की पहली खुराक दी जा चुकी है, जबकि इस आयु वर्ग के 8,21,86,280 लोगों को दोनों खुराक दी जा चुकी हैं।