सुरक्षित ड्राइविंग स्किल सिखाने में आईडीटीआर की होगी महत्वपूर्ण भूमिका : मुख्यमंत्री बघेल

ग्राम तेंदुआ में 17 करोड़ रुपए की लागत से 20 एकड़ में संस्थान बनाया गया है, दिव्यांग अभ्यर्थियों को मुफ्त में प्रशिक्षण देने की घोषणा की। ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट में इस वर्ष 2 हजार लोगों को प्रशिक्षण देने का लक्ष्य है।

 

रायपुर (Raipur)। मुख्यमंत्री (Chief Minister) भूपेश बघेल ने आज नवा रायपुर अटल नगर के ग्राम तेंदुआ में 17 करोड़ रुपए की लागत से निर्मित इंस्टीट्यूट ऑफ ड्राईविंग एण्ड ट्रैफिक रिसर्च (institute of driving and traffic research) छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) का लोकार्पण (Inaugurated) किया। प्रशिक्षण की सभी आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित इस इंस्टीट्यूट का निर्माण ग्राम तेंदुआ में 20 एकड़ के विशाल भू-भाग पर किया गया है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि सुरक्षित ड्राइविंग स्किल (safe driving skills) सिखाने में इंस्टीट्यूट ऑफ ड्राईविंग एण्ड ट्रैफिक रिसर्च (institute of driving and traffic research) की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। सुरक्षित परिवहन के लिए यह आवश्यक है कि हम स्वयं यातायात नियमों का पालन करते हुए वाहन चलाएं, इसके साथ यह भी जरूरी है कि सामने वाला भी सही ढंग से वाहन चलाएं।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर आईडीटीआर में प्रशिक्षण प्राप्त करने वाली महिलाओं और थर्ड जेंडर के अभ्यर्थियों को प्रशिक्षण शुल्क में 50 प्रतिशत की छूट देने तथा दिव्यांग अभ्यर्थियों को मुफ्त में प्रशिक्षण प्रदान करने की घोषणा की। बघेल ने विधायक श्री धनेंद्र साहू के आग्रह पर नवा रायपुर की चेरिया-पौंता सड़क के निर्माण कार्य को राज्य सरकार के अगले मुख्य बजट में शामिल करने की घोषणा भी की। परिवहन मंत्री मोहम्मद अकबर ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की।

विशेषज्ञ देंगे अत्याधुनिक उपकरणों से ड्राइविंग की ट्रेनिंग
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि आज नवा रायपुर में प्रारंभ हुए इस इंस्टीट्यूट में विशेषज्ञों द्वारा अत्याधुनिक उपकरणों के माध्यम से प्रशिक्षणार्थियों को ड्राइविंग की ट्रेनिंग दी जाएगी, जिसमें उन्हें गाड़ी चलाने, पार्किंग, बैक करने, चढ़ाव और टर्निंग पर गाड़ी कैसे चलाना है, यह सिखाया जाएगा। साथ ही वाहनों में लगे हुए यंत्रों की कार्यप्रणाली से अवगत कराया जाएगा। मुख्यमंत्री ने परिसर में चंदन का पौधा भी रोपा।

‘‘तुंहर सरकार-तुंहर द्वार‘‘ योजना का 4 लाख 65 हजार लोगों को लाभ
परिवहन मंत्री मोहम्मद अकबर ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कहा कि इस ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट में प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले अभ्यर्थियों को रोजगार उपलब्ध कराने में सहयोग दिया जाएगा। यहां प्रशिक्षण प्राप्त करने वालों को शासकीय विभाग में वाहन चालक पद पर भर्ती में प्राथमिकता दी जाएगी। प्रशिक्षण पूरा करने वालों को लाइसेंस दिए जाएंगे। उन्होंने परिवहन विभाग की ‘‘तुंहर सरकार-तुंहर द्वार‘‘ योजना के संबंध में बताया कि इस योजना में 4 लाख 65 हजार 918 लोगों को ड्राइविंग लाइसेंस घर पहुंचाकर दिए गए।

इंस्टीट्यूट में एक साथ 250 लोगों को प्रशिक्षण
इस अवसर पर मारुति सुजुकी इंडिया के सीईओ एवं एमडी श्री केनिची आयुकावा ने कहा कि उनके संस्थान द्वारा पिछले 20 वर्ष में पूरे देश में 39 लाख लोगों को ड्राइविंग का प्रशिक्षण दिया गया है। नवा रायपुर में स्थित यह आईडीटीआर मारूति सुजुकी का देश में 8वां संस्थान है। उन्होंने नमस्ते कहकर अतिथियों का अभिवादन किया। परिवहन विभाग के सचिव श्री टोपेश्वर वर्मा ने स्वागत भाषण देते हुए बताया कि इस इंस्टीट्यूट में एक साथ 250 लोगों को प्रशिक्षण दिया जा सकता है। अपर परिवहन आयुक्त नदीपांशु काबरा ने अतिथियों के प्रति आभार प्रकट किया। कार्यक्रम में बस एसोसिएशन, स्कूल एसोसिएशन, मारूति डीलर्स, रायपुर ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया।

(TNS)