भाईदूज : अकाल मृत्यु से बचने बहनों से बंधवाएं रक्षा सूत्र, बहन से जरूर करें ये वादे

भाई के माथे पर तिलक और अक्षत लगाकर उनकी उन्नति की कामना करती हैं। भाई को मिठाई खिलाकर उनके जीवन में मिठास, साथ ही दोनों के रिश्ते में अपनेपन की उम्मीद करती हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि उन्हें आपसे कोई सच में क्या चाहिए होता है?

भिलाई (Bhilai)। दीपावली त्योहार (Diwali festival) के साथ कई धार्मिक (Religious) पर्व के साथ परंपराएं (traditions) जुड़ी हुई हैं। धनतेसर (Dhantesar) से लेकर भाईदूज (brotherhood) तक पांच दिनों हर घर में आस्था (faith) और उल्लास (glee) का माहौल रहता है। मां लक्ष्मी की पूजा के बाद गोवर्धन और फिर भाई और बहन के स्नेह का दिन आता है। भैया दूज बहन और भाई का दिन होता है। यह त्योहार भाई-बहन के स्नेह को बजबूत (strong) करता है।

यह त्योहार दीवाली के दो दिन बाद मनाया जाता है। हिन्दू धर्म में भाई-बहन के स्नेह-प्रतीक में दो त्योहार आते हैं। एक रक्षाबंधन जो श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इसमें भाई बहन की रक्षा करने की प्रतिज्ञा करता है। दूसरा त्योहार भाई दूज का होता है। इसमें बहनें भाई की लंबी आयु की प्रार्थना करती हैं। भाई दूज का त्योहार कार्तिक मास शुक्लपक्ष की द्वितीया को मनाया जाता है।

ये है भाईदूज की कथा

इस दिन बहनें भाइयों के स्वस्थ तथा दीर्घायु होने की मंगल कामना करके तिलक लगाती हैं। भविष्योत्तर पुराण में भाईदूज की जो कथा मिलती है उसके अनुसार यमराज अपने कामकाज में इतने व्यस्त हो गए कि उन्हें अपनी बहन यमुना की याद भी नहीं रही। एक दिन यमुना ने यमराज को संदेशा भिजवाया। बहन का संदेशा मिलते ही यमराज बहन से मिलने निकल पड़े। यह दिन है कार्तिक शुक्ल द्वितीया तिथि। इस तिथि को यमद्वितीया और भाईदूज के नाम से भी जाना जाता है। यह पर्व मुख्यतः भाई-बहन के अटूट प्रेम का प्रतीक है।

ये वादे करें पूरे, तो जिंदगी होगी खुशहाल
भाई के माथे पर तिलक और अक्षत लगाकर उनकी उन्नति की कामना करती हैं। भाई को मिठाई खिलाकर उनके जीवन में मिठास, साथ ही दोनों के रिश्ते में अपनेपन की उम्मीद करती हैं। इसके बदले में भाई इस मौके पर बहनों को तोहफा देते हैं। बहनें उसे हंसी खुशी ले भी लेती हैं लेकिन क्या आपको पता है कि उन्हें आपसे कोई सच में क्या चाहिए होता है?

इस साल भाई अपनी लाडली बहन को ऐसा गिफ्ट दें जो उन्हें जिंदगी भर याद रहे। बहन के जीवन से जुड़ा ऐसा गिफ्ट जो भले ही महंगा न हो लेकिन भाई बहन के अटूट प्यार की निशानी हो। इस भैया दूज बहनों से करे वो पांच वादें, जिससे बहन की जिंदगी बनेगी खुशहाल। चलिए जानते हैं बहन को तोहफे में दें कौन से पांच वादे।

आत्मविश्वास से उम्मीदों पर खरा उतरें
अक्सर बहनें बाहर जाते समय भाई और पिता से लिफ्ट पाने की उम्मीद रखती हैं। वो ये चाहती हैं कि आप उन्हें काॅलेज या ऑफिस ड्राप कर दें। इसकी एक वजह उनमें आत्मविश्वास की कमी हो सकती है। मन में कहीं डर या संकोच हो सकता है। इस डर को एक भाई ही निकाल सकता है। ऐसा आप उनके भविष्य को निखारने के लिए करेंगे।

मजबूती के लिए प्रयास करें

माना जाता है कि लड़कियां लड़को से कमजोर होती हैं। हो सकता है आपके परिवार में भी बहनों को ऐसा महसूस भी करवाया जाता हो, पर इस भाई दूज बहन को महसूस कराएं कि वह कमजोर नहीं। बहन को न केवल शारीरिक तौर से मजबूत बनाने के लिए प्रयास करने का वादा करिए बल्कि मानसिक तौर पर भी उसे महसूस कराए है।

निर्णय क्षमता बढ़ाएं
अक्सर परिवारों में भाई फैसले लेते हैं। यहां तक की बहनों के जीवन से जुड़े फैसले भी पिता के अलावा भाई ही लेते हैं। आप उनसे इस भाई दूज ये वादा करें कि आप बहन के फैसले में उनके साथ हैं। परिवार के बाकी सदस्यों को भी समझाएं कि आपकी बहन अपने फैसले लेने में सक्षम है।

विश्वास दिलाएं
लड़कियां कई बार अपने मन की बात परिवार में किसी से नहीं कह पाती, खासकर अपने पिता और भाई से। ऐसा उनके मन में डर या संकोच की वजह से होता है। बहन की इस झींझक को खत्म करें। उन्हें विश्वास दिलाएं कि अच्छी हो या बुरी, आप बहन की हर बात सुनने को तैयार रहेंगे।

बहन को दें सपोर्ट

बहन को एहसास दिलाएं कि आप उनका सहयोग करेंगे। वादा कीजिए कि आप बहन का इमोशनल सपोर्ट बनेंगे। उन्हें ये बताएं कि आपको भी उनके प्यार और सपोर्ट की जरूरत है। इसलिए एक दूसरे का ख्याल हमेशा रखेंगे।
(TNS)