इंडिया v/s पाकिस्तान टी-20 : पाकिस्तान के साथ मैच नहीं खेलने से भारत को नुकसान, चार डरा देने वाले अंजाम

फैंस को सबसे ज्यादा इंतजार 24 अक्तूबर को भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाले सुपर-12 के मैच का है। हालांकि इससे पहले जम्मू-कश्मीर में हुई आतंकी घटनाओं के बाद भारत के लोगों की राय दो भागों में बंट गई है।

दुबई। मुंबई में 2008 आतंकी हमले के बाद से भारत ने पाकिस्तान का दौरा नहीं किया है। वहीं लाइन ऑफ कंट्रोल पर लगातार सीजफायर का उल्लंघन और फरवरी 2019 में हुए पुलवामा हमले के बाद से यह संबंध और बिगड़ गए थे।

टी-20 विश्व कप का आगाज हो चुका है। फैंस को सबसे ज्यादा इंतजार 24 अक्तूबर को भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाले सुपर-12 के मैच का है। हालांकि इससे पहले जम्मू-कश्मीर में हुई आतंकी घटनाओं के बाद भारत के लोगों की राय दो भागों में बंट गई है।

1. पाकिस्तान को आसानी से मिलेगा अंक

अगर भारत खेलने से इनकार कर देता है तो पाकिस्तान को दो अंक मिल जाएंगे। साथ ही भारत को कोई अंक नहीं मिलेगा। सुपर-12 राउंड के बाद दो ग्रुप से टॉप-2 टीमें ही सेमीफाइनल में पहुंचेंगी। ऐसे में भारत का आगे बढऩा मुश्किल हो जाएगा।

2. भारत पर लगा सकता है प्रतिबंध
अगर भारतीय टीम पाकिस्तान के खिलाफ मैच नहीं खेलती है, तो अंक गंवाने के साथ-साथ भारतीय टीम पर प्रतिबंध भी लगाया जा सकता है। यह प्रतिबंध क्रिकेट को देखने वाली काउंसिल, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) लगा सकती है। इसके साथ ही आईसीसी भारत पर आर्थिक जुर्माना भी लगा सकता है।

3. टूर्नामेंट से फायदे की जगह होगा नुकसान

बोर्ड निश्चित तौर ऐसा नहीं चाहेगा कि भारत-पाकिस्तान मैच न हो। इस मैच से और इसके प्रमोशन मात्र से बोर्ड को कई करोड़ रुपये की कमाई होती है। भारत का न खेलना टूर्नामेंट की पॉपुलैरिटी पर फर्क डाल सकता है।

4. फाइनल या सेमीफाइनल मैच होने पर क्या करेंगे?
चलो एक बार मान लेते हैं कि भारत पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलता है। इसके बाद भी टीम सेमीफाइनल में पहुंच जाती है। सेमीफाइनल या फाइनल में ही अगर भारत का पाकिस्तान से मैच फंस जाए, फिर उस स्थिति में बीसीसीआई क्या करेगी? ऐसे में भारत के हटने पर पाकिस्तान को विजेता घोषित कर दिया जाएगा।

खेलकर हराना सबसे बड़ा तमाचा
अगर भारत यह मैच खेलता है और पाकिस्तान को हराता है तो यह पाकिस्तान के मुंह पर सबसे बड़ा तमाचा होगा। मैच कैंसिल करने पर पाकिस्तान को जश्न मनाने का मौका मिल जाएगा और पाक टीम यही चाहती भी है। आंकड़े भी भारत के पक्ष में हैं।

मुंबई हमले के बाद से बिगड़े रिश्ते
मुंबई में 2008 आतंकी हमले के बाद से भारत ने पाकिस्तान का दौरा नहीं किया है। वहीं लाइन ऑफ कंट्रोल पर लगातार सीजफायर का उल्लंघन और फरवरी 2019 में हुए पुलवामा हमले के बाद से यह संबंध और बिगड़ गए थे।
(TNS)