बेमौसम बारिश ने रुलायाः पानी में डूबी खड़ी फसल, होगा बड़ा नुकसान

नेक किसानों के खेतों में पानी भर गया है, जिससे धान कटाई संभव नहीं है। वहीं दूसरी ओर ऐसे किसान हैं जिन्होंने अपनी फसल काटकर खेतों में रखे हैं जो पानी भरने से खराब हो गई। पानी में फसल खराब होने से परेशान किसानों का कहना है एक दिसंबर से होने वाली धान खरीदी के लिए फसल कटाई कर रहे थे, लेकिन रात में हुई बारिश से खेतों में पानी भर गया है

रायपुर (raipur)। कुछ दिनों से छत्तीसगढ़ (chhattisgarh) में मौसम खराब चल रहा है। आसमान पर लगातार बदली छाई हुई है। ऐसे में जिसका डर था वही हुआ। प्रदेश के कई जिलों में देर रात को तेज बारिश (rain) हुई है। खेतों में पानी (water in the fields) भर गया है। जहां फसल पक कर तैयार है। बारिश के कारण फसल नीचे बैठ (Went) गया है। अगर मौसम ऐसा ही रहा, तो फसल के सड़ने का खतरा है।

ऐसे में किसानों की सालभर की मेहनत बेकार हो जाएगी। सालभर इसी से चलने वाले खर्च को लेकर किसान चिंतित हैं। कई किसानों के खेतों में कटाई का काम भी चल रहा है। फसल के गीला हो जाने से उनका काम भी रूक गया है।

पानी भरने से कटाई रूकी
जानकारी अनुसार गांव में लगभग हर किसान की यही स्थिति है। अनेक किसानों के खेतों में पानी भर गया है, जिससे धान कटाई संभव नहीं है। वहीं दूसरी ओर ऐसे किसान हैं जिन्होंने अपनी फसल काटकर खेतों में रखे हैं जो पानी भरने से खराब हो गई। पानी में फसल खराब होने से परेशान किसानों का कहना है एक दिसंबर से होने वाली धान खरीदी के लिए फसल कटाई कर रहे थे, लेकिन रात में हुई बारिश से खेतों में पानी भर गया है जिसकी वजह से अब धान कटाई संभव नहीं है।

प्राकृतिक आपदा के लिए मुआवजा मिलना चाहिए
ऐसे में किसानों ने फसल नुकसान के लिए सरकार से मुआवजा देने की मांग की। किसानों ने कहा कि बेमौसम बरिश होने की वजह से बड़ा नुकसान हुआ है। फसल बर्बाद हो गई है, सरकार को प्राकृतिक आपदा के लिए मुआवजे की राशि देनी चाहिए। हमारी तो मेहनत और पैसा दोनों बर्बाद हो गया हैं। इस ओर सरकार को विचार करना चाहिए।

(TNS)