दिल्ली से संकेत, छत्तीसगढ़ कांग्रेस में हो सकता है बड़ा उलटफेर

बस्तरिया कांग्रेसी हो सकता है, छत्तीसगढ़ कांग्रेस का मुखिया

फाइल फोटो

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (cm bhupesh baghel) की आज दिल्ली में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी (sonia gandhi) और प्रियंका गांधी वाड्रा (priyanka gandhi vadra) से मुलाकात के बाद छत्तीसगढ़ कांग्रेस (chhattisgarh congress) में उठापटक के संकेत मिल रहे हैं। सूत्रों के अनुसार प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद पर बस्तर के किसी नेता को बिठाया जा सकता है। अगर ऐसा होता है तो कांग्रेस एक तीर से दो निशाने लगाएगी। एक तो आदिवासियों के कांग्रेस के पक्ष में आने की संभावना बढ़ेगी, दूसरी सरकार के लिए चुनौती बन रहे मौजूदा अध्यक्ष मोहन मरकाम भी किनारे हो जाएंगे।

छत्तीसगढ़ कांग्रेस के अध्यक्ष मोहन मरकाम लंबे समय से सरकार या यूं कहें कि सीएम भूपेश बघेल से इतर चलते रहे हैं। कई बार ऐसा हुआ जब सरकार और संगठन अलग-अलग धाराओं में दिखाई दिए। यहां तक कि संगठन की महत्वपूर्ण बैठकों में भी मुख्यमंत्री को किनारे करने का प्रयास किया गया। इस मामले को लेकर सीएम बघेल भी पूर्व में नाराजगी जता चुके हैं। सरकार और संगठन जिस तरह से दो धाराओं में चल रहे हैं, उसे देखकर पहले भी यह चर्चा रही है कि संगठन में फेरबदल हो सकता है। अब संगठन में बदलाव के संकेत मुख्यमंत्री की दिल्ली में सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा से मुलाकात के बाद मिल रहे हैं।

दरअसल गुस्र्वार को सीएम दिल्ली प्रवास पर थे। सूत्रों के अनुसार वहां सोनिया गांधी से देश और प्रदेश में पार्टी की स्थिति को लेकर चर्चा हुई है। चूंकि सीएम भूपेश छत्तीसगढ़ में अपने कामकाज को लेकर चर्चा में हैं, इसलिए पार्टी का स्र्ख उनकी ओर सकारात्मक है। बताया जा रहा है कि सरकार के समकक्ष अलग व्यवस्था चलाने की कोशिश करने के चलते प्रदेश अध्यक्ष को हटाया जा सकता है। उनकी जगह बस्तर के किसी आदिवासी नेता को पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाया जा सकता है।
(TNS)