अवैध रुप से धान बेचने की थी तैयारी, मुखबिर की सूचना पर 800 बोरा जब्त

रायपुर। प्रदेश के धान खरीदी केंद्र में खपाने के लिए लाए जा रहे 800 अवैध धान प्रशासन ने जब्त किया है। मुखबिर की सूचना पर जगदलपुर जिला प्रशासन ने उक्त कार्रवाई की। प्रशासन ने बकावंड तहसील के करीतगांव में 700 कट्टा और उड़ियापाल में 100 कट्टा धान जब्त किया है।

जगदलपुर जिला प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार धान खरीदी में गड़बड़ी रोकने कलेक्टर रजत बंसल के निर्देश पर जिले की सीमा में लगातार जांच की जा रही है। बस्तर एसडीएम ओमप्रकाश वर्मा की टीम ने मुखबिर की सूचना पर उक्त कार्रवाई की। बताया जा रहा है जिला प्रशासन की टीम ने बकावंड ब्लाक के करीतगांव निवासी गजेंद्र पाणिग्राही के घर से 700 कट्टा धान जब्त किया गया। जांच में उसके पास उसके हक का एक एकड़ और अधिया में 15 एकड़ जमीन मिली। पूछताछ में उसने धान खरीदना स्वीकार किया। जांच में पाया गया कि उसके पास मंडी का लाइसेंस भी नहीं था।

इसी तरह बकावंड ब्लाक के उड़ियापाल में महालक्ष्मी पति नरसिंह के यहां 100 कट्टा अवैध धान जब्त किया गया। दोनों मामलों में मंडी एक्ट के तहत कार्रवाई की गई। अधिकारियों ने बताया कि धान खरीदी में गड़बड़ी रोकने के लिए ओडिशा की सीमा से लगे गांव में कड़ी नजर रखी जा रही है।

बतादें कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने धान खरीदी के लिए खरीदी केन्द्रों में सभी आवश्यक सुविधाएं और व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं, जिससे धान बेचने आए किसानों को कोई असुविधा न हो। बघेल के निर्देश पर प्रशासनिक अधिकारी धान खरीदी को लेकर मुस्तैद है और केन्द्रों का औचक निरीक्षण कर रहे है।

बस्तर कमिश्नर जीआर चुरेंद्र ने दो दिन पहले जगदलपुर के बड़े मुरमा और नानगुर धान खरीदी केंद्रों का औचक निरीक्षण किया और धान खरीदी की व्यवस्थाओं का जायजा लेकर खरीदी कार्य को सुचारू संचालन के निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने ओ़ड़िशा की सीमा से लगे गांवों की और रास्तों पर विशेष नजर रखने के निर्देश दिए, ताकि अन्य राज्यों से यहां अवैध धान नहीं खपाया जा सके।