IAS अमृत तोपने ने छत्तीसगढ़ सरकार को भेजा इस्तीफा, पिछले सप्ताह ही योजना विभाग में हुए थे पदस्थ

रायपुर। छत्तीसगढ़ की नौकरशाही से एक और आईएएस अधिकारी अमृत विकास टोपने के इस्तीफा देने की खबर मिल रही है। बताया जा रहा है कि साल 2014 बैच के आईएएस अधिकारी ने अपना इस्तीफा मुख्य सचिव को भेज दिया है। हालांकि, उनका इस्तीफा अभी तक स्वीकार नहीं किया गया है। तोपने को नागरिक आपूर्ति निगम के महाप्रबंधक के पद से हटाकर पिछले सप्ताह ही योजना विभाग में पदस्थ किया गया था। तभी से उनके इस्तीफे की अटकलें लगाई जा रही थीं।

हालांकि, चर्चा यह भी है कि वह पारिवारिक कारणों से इस्तीफा दे रहे हैं। मंत्रालय में उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक, मुख्य सचिव को अपना इस्तीफा भेजकर दिल्ली चले गए हैं। उन्होंने अपने आधिकारिक और निजी मोबाइल नंबर भी बंद कर दिए हैं, जिसकी वजह से उनसे संपर्क स्थापित नहीं किया जा सका है।

बताते चलें कि मूल रूप से झारखंड के रहने वाले अमृत विकास टोपने को सरकार ने 27 नवंबर को नागरिक आपूर्ति निगम (एनएएन) से हटा दिया था। उन्हें योजना, अर्थशास्त्र और सांख्यिकी विभाग में उप सचिव की जिम्मेदारी दी गई थी। इससे पहले टोपने नान के महाप्रबंधक के पद के साथ-साथ संस्कृति विभाग के निदेशक का कार्यभार भी संभाल चुके हैं।

बताते चलें कि राज्य में अब तक तीन आईएएस ने अपने पद से इस्तीफा दे चुके हैं। इनमें 1994 बैच के राजकमल, 1988 बैच के शैलेश पाठक और 2005 बैच के ओपी चौधरी शामिल हैं। चौधरी विधानसभा चुनाव से पहले रायपुर कलेक्टर पद से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हो गए थे और उन्हें खरसिया विस सीट से मंत्री उमेश पटेल के खिलाफ भाजपा ने खड़ा किया था। हालांकि, वह चुनाव में हार गए थे, लेकिन वर्तमान में चौधरी भाजपा के राज्य मंत्री का पद संभाल रहे हैं।