अवैध कारोबार पर अलर्ट: ओडिशा की ओर से आने वाली कच्ची सड़कों पर भी चेक पोस्ट

रायपुर (Raipur)। छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में किसी भी हालत में दूसरे राज्यों का धान नहीं आने देने के लिए प्रशासन ने पूरी तैयारी कर ली है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सख्त आदेश के बाद से खासकर ओडिशा सीमा को जोड़ने वाली सड़कों पर चेक पोस्ट लगा दिए गए हैं। जहां पुलिस बल मुस्तैदी से नजर रखा हुआ है।

पिछले साल की तरह छत्तीसगढ़ में दूसरे राज्य से अवैध धान (illegal paddy) न आ पाए इसके लिए परिवहन (transportation) रोकने के लिए कलेक्टर-एसपी (Collector-SP) ने जिले के संबंधित अधिकारियों की बैठक लेकर प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट है। रायपुर क्षेत्र को देखें तो कलेक्टर नीलेश क्षीरसागर और एसपी पारूल माथुर सीमावर्ती इलाकों की सतत मानिटरिंग कर रहे हैं।

वहीं दुर्ग संभाग में भी दुर्ग (Durg), राजनांदगांव, बालोद, बेमेतरा, कवर्धा जिले में ऐसी कोई स्थिति न बने इसके लिए प्रशासन के साथ पुलिस विभाग कोचियों पर नजर रखे हुए है। आज इन जगहों पर पुलिस जवान और अन्य विभागों के कर्मचारी तैनात किए जाएंगे। कर्मचारियों की ड्यूटी 24 घंटे रहेगी।

नहीं तो किए जाएंगे बड़ी कार्रवाई
थाना प्रभारी विकास बघेल ने बताया एसपी के निर्देश पर यहां सभी छोटे रास्ते जहां से धान तस्करों की आवाजाही होती है वहां चेक पोस्ट लगाए जाएंगे। बघेल ने बताया कि तस्करी में लगे वाहनों की पहचान भी सूत्रों से की जा रही है। समय रहते वाहन मालिक बाज नहीं आए तो आने वाले दिनों में बड़ी कार्रवाई के संकेत अफसरों ने दिए हैं।

पकड़ा गया धान से भरा चार वाहन

इधर प्रशासन सख्त हुआ और एक्शन लेते हुए परिवहन की जांच शुरू की, तो चार वाहन पकड़ा गया। पिकअप क्रमांक सीजी 04 जेबी 9917 में 25 क्विंटल 466 बोरी धान जब्त किया गया। वहीं सोसाइटियों में गड़बड़ी होने पर कर्मचारियों पर गाज गिरेगी और किसान का पंजीयन भी रद्द की जाएगी।

हौसले हैं बुलंद, ओडिशा से पहुंचा पिकअप
अवैध धान परिवहन को लेकर कभी सख्त कार्रवाई नहीं होने की वजह से माफिया बेधड़क छत्तीसगढ़ लाकर धान खपाते रहे हैं। आदेश के बाद गुरुवार की शाम से सभी संभावित इलाकों में प्रशासन अलर्ट होकर तस्करों पर निगरानी कर रही है। एसडीएम ने पुलिस के साथ मिलकर पिकअप समेत धान को जब्त कर लिया। सीमाओं पर कड़ी निगरानी के लिए आज एसपी पारुल माथुर ने 25 अतरिक्त बल को देवभोग भेजा गया है।
(tns)