विश्व रिकॉर्ड: छह साल के बच्चे ने बिना रुके 100 किमी साइकिल चलाई, बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड

चेन्नई के रहने वाले रियान को यह कारनामा करने में पांच घंटे, 17 मिनट और छह सेकेंड का समय लगा

नई दिल्ली। एक बच्चे ने महज पांच घंटे और 17 मिनट में 100 किलोमीटर साइकिल चलाकर नया विश्व रिकॉर्ड बनाया है। उन्होंने केवल छह साल की उम्र में यह कारनामा कर दिया है।

छह साल के रियान कुमार (riyan kumar) ने बिना रुके 109 किलोमीटर साइकिल चलाकर विश्व रिकॉर्ड बना दिया है। चेन्नई के रहने वाले रियान को यह कारनामा करने में पांच घंटे, 17 मिनट और छह सेकेंड का समय लगा। अब रियान सबसे कम उम्र में और सबसे कम समय में 100 किलोमीटर साइकिल चलाने वाले व्यक्ति बन चुके हैं। रियान ने बताया कि उनकी रिटायर्ड मां से उन्हें यह रिकॉर्ड बनाने की प्रेरणा मिली और मां की देखरेख में बेटे ने यह कमाल कर दिखाया। उनके माता-पिता नौसेना में अधिकारी थे और उनका परिवार दिल्ली में रहता था, जो हाल ही में चेन्नई शिफ्ट हुआ है।

प्रोफेशनल साइकिलिंग की दुनिया के कई बड़े नामों ने रियान की सराहना की है। सत्या नाम के एक साइकलिस्ट ने भी उनकी तारीफ की है। रियान फ्रांस के साइकिल रेस टूर में भी भाग लेना चाहते हैं। वो तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन (mk stalin) के साथ पैडलिंग करना चाहते हैं।

रियान की मां ने बताया कि उनकी मां के अंदर भी साइकिल चलाने का जुनून था। यहीं से उन्होंने साइकिल चलाना सीखा और अब उनका बेटा भी इस क्षेत्र में कमाल कर रहा है। रियान की मां गौरी भी 200 किमी ब्रेवेट पूरी कर चुकी हैं, जबकि उनकी मां प्रभा राष्ट्रीय स्तर की साइकलिस्ट थीं। रियान की मां ने ही उन्हें फ्लाईओवर में साइकिल चलाने की ट्रेनिंग दी और इस रिकॉर्ड के लिए उन्हें तैयार किया। चेन्नई पहुंचने से पहले रियान अपनी मौसी के साथ दिल्ली में रहता था। उनकी मां चेन्नई और पिता मुंबई में रहते थे। अब उनकी मां रिटायर हो चुकी हैं, जबकि पिता की पोस्टिंग चेन्नई में है। अब उनका परिवार साथ रह रहा है।

रियान की मां बताती है कि चेन्नई आने के बाद उन्होंने देखा कि रियान साइकिल चलाने में काफी रुचि दिखाते हैं और आसानी से लंबी दूरी तक साइकिल चला सकते हैं। उनकी मां गौरी नई साइकिल लेना चाहती हैं, लेकिन वो अपने बेटे के लिए ऐसा नहीं कर रही हैं। रियान अभी भी साधारण साइकिल चलाते हैं और उनकी मां अगर तेज गति वाली साइकिल लेती हैं तो दोनों मां-बेटे साथ नहीं चल पाएंगे। रियान के इस कारनामे के बाद उनके लिए भविष्य के रास्ते खुलेंगे और साइकिलिंग की दुनिया में वो और बेहतर कर पाएंगे।
(TNS)