छत्तीसगढ़ के मंत्री अमरजीत से नहीं मिल रहे केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल, धान पर करनी है बात

छत्तीसगढ़ के खाद्य मंत्री अमरजीत सिंह भगत इन दिनों दिल्ली में हैं. फाइल फोटो.

रायपुर. छत्तीसगढ़ सरकार में खाद्य आपूर्ति मंत्री अमरजीत भगत ने आरोप लगाया कि केन्द्रीय खाद्य आपूर्ति मंत्री पीयूष गोयल मिलने का समय नही दे रहे हैं। अमरजीत भगत ने कहा कि राज्य के किसानों, धान खरीदी और राइस मिल के लिए केंद्रीय मंत्री से मिलने समय मांग रहे है, मगर वो नहीं मिल रहे हैं। कोशिश है कि मिलकर अपनी बात रख सकें। पहले ज्यादा धान की पैदावार हुई है, केंद्र सरकार ने आदेश कर दिया कि उसना चावल नहीं खरीदेंगे। इससे राइस मिल बंद होने का ख़तरा है, बेरोजगारी बढ़ सकती है। 50 से 60 फीसदी किसान हाई ब्रीड बीज का प्रयोग करते है।

अमरजीत भगत ने केंद्र सरकार पर हमला करते हुए कहा कि केंद्रसरकार की जो नीति है, लगातार उस पर काम हो रहा है। अचानक उसना चावल नहीं खरीदने का फैसला करेंगे तो व्यवस्था तो बिगड़ेगी। पहले से सूचित करते बुवाई नहीं होती, आज तैयार फसल लेकर कहां जाए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के फैसले से किसानों का नुकसान है, आमदनी बढ़ाने नीति के तहत काम कर रहे है अब चावल नही खरीदेगे तो किसान कहां जाएंगे। केंद्र सरकार किसानों की आय दोगुनी करने के लिए सिर्फ बातो तक सीमित है, करना कुछ नहीं है। किसानों को बाज़ार नही मिलेगा तो कहाँ जाएगा, सिर्फ़ यही चाहते हैं, जो व्यवस्था चल रही थी उसी को रखें।

इस बात की मांगी इजाजत
केन्द्रीय मंत्री ने बताया कि पीयूष गोयल को फोन पर सलाह भी है 20 लाख मेट्रिक टन उसना सेंट्रल पूल में खरीद लें और 20 लाख मेट्रिक टन का एथनॉल बनाने की इजाजत दे दे। प्लास्टिक बारदाने पर उन्होंने कहा कि जुट के बारदाने मुहैया नहीं करा पा रहे है इसलिए प्लास्टिक के बारदाने की मांग की है। केंद्र सरकार इसके लिए इजाजत दे रही है। भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि राजनीतिक प्रस्ताव में हमारे भी बिन्दू जोड़ दे, किसानों की दिक्कत, आय दोगुनी करें समस्या को हल करेंगे, मंहगाई कम करें, चीन पर क्या नीति साफ करें।