इधर धान खरीदी की तैयारी, उधर अवैध धान की आवक बढ़ी, झारखंड से ला रहे 60 बोरी अवैध धान की जप्त

रायपुर (raipur)। छत्तीसगढ़ (chhattisgarh) में सहकारी सोसाइटियों (co-operative societies) के माध्यम से समर्थन मूल्य (support price) पर धान (paddy) की खरीदी शूरू होने वाली है। इसकी तैयारी में अमला लगा हुआ है। अब तो खरीदी के लिए टोकन बंटना भी शुरू हो गया है। वहीं दूसरी ओर अवैध धान की भी परेशानी सामने आ रही है। दूसरे राज्यों (other states) से धान लाकर उसकी खपत करने के फिराक में कोचिए लगातार प्रयास में हैं। इसीलिए दूसरे राज्यों से अवैध धान (illegal transport) लाया जा रहा है। पुलिस व जिला प्रशासन की मुस्तैदी की वजह से ऐसे धान पर जप्ती (confiscate) की कार्रवाई (action) की जा रही है। सोमवार को भी 60 बोरी अवैध धान जब्त किया गया।

राज्य की सीमा पर लगाया गया है चेक पोस्ट
बता दें कि मुख्यमंत्री (Chief Minister) भूपेश बघेल की घोषणा के अनुरूप प्रदेश के किसानों से एक दिसंबर से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी शुरू होगी। खाद्य मंत्री (Food Minister) अमरजीत भगत ने विभागीय अधिकारियों की समीक्षा बैठक लेकर सुगमता से धान विक्रय के संबंध में सभी आवश्यक तैयारियां पहले पूर्ण करने के निर्देश दिए हैं। राज्य की सीमाओं पर चेक-पोस्ट लगाकर अवैध धान पर निगरानी रखने के भी निर्देश दिए हैं। इसी के तहत झारखंड से जशपुर (Jharkhand to Jashpur) जिले की सीमा से छत्तीसगढ़ ला रहे 60 बोरी अवैध धान को कलेक्टर के मार्गदर्शन में संयुक्त दल द्वारा जप्त किया गया है।

सीमावर्ती चेक-पोस्ट पर 24 घंटे निगरानी
खाद्य मंत्री (Food Minister) अमरजीत भगत के निर्देश पर प्रदेश में अवैध धान परिवहन रोकने के लिए लगातार कार्रवाई की जा रही है। सभी सीमावर्ती चेक-पोस्ट पर 24 घंटे निगरानी की जा रही है। कच्चे रास्तों और पगडंडियों पर भी नजर रखी जा रही है। राजस्व और पुलिस विभाग की संयुक्त टीम संवेदनशील क्षेत्र, बिचौलियों, कोचियों पर भी विशेष निगरानी रख रही है। अवैध धान के आवागमन पर रोक लगाने के लिए गोदामों का भौतिक सत्यापन करने सहित छापेमारी की कार्यवाही भी की जा रही है।

(TNS)