कलमबंद हड़तालः पदोन्नति के साथ चाहिए सातवें वेतनमान, अनिश्चितकालीन हड़ताल पर गए रविवि के कर्मचारी

रायपुर (raipur)। सातवें वेतनमान (seventh pay scale) सहित एरियस (Arias) और पदोन्नति (promotions) की मांग (demand) को लेकर पं रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय (Pt Ravi Shankar Shukla University) में कार्यरत कर्मचारियों (employee) ने गुरुवार को प्रदर्शन किया। काम बंद कर कर्मचारियों ने अनिश्चितकालीन हड़ताल (strike) का निर्णय लिया है। हड़ताल से विश्वविद्यालय में कामकाज पूरी तरह से प्रभावित है।

कर्मचारियों का कहना है कि हमारी मांगों पर मंत्रालय (ministry) से लेकर शासन स्तर तक आदेश जारी करने के लिए कहा गया है। इसके लिए लेटर भी जारी किया है, पर भी विश्वविद्यालय (university) के कुलपति (Vice Chancellor) और रजिस्ट्रार (registrar) तानाशाही अपनाए हुए है। आदेश की अनदेखी के खिलाफ हम अचानक अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठे हैं।

कहीं सुनवाई नहीं हुई तब यह कदम उठाया
आंदोलनकारियों ने बताया इसके पहले हमने मंत्री से लेकर विभागीय अधिकारी विवि प्रबंधन तक को ज्ञापन सौंपा था। जब बात नहीं बनी तो हमें यह कदम उठाना पड़ा है। बावजूद मांगों को लेकर अब तक कोई पहल नहीं की गई। विश्वविद्यालय ने हमारी मांगों को अनसुना कर दिया। हड़ताल से विश्वविद्यालय में कामकाज पूरी तरह से प्रभावित है। कार्यालयीन काम नहीं होने से विद्यार्थी भटकने को मजबूर है।

कर्मचारियों की ये हैं मांगें
कर्मचारियों को 7वें वेतनमान के तीन किश्तों के एरियर्श का भुगतान किया जाए।
तृतीय और चतुर्थ वर्ग के कर्मचारियों को विश्वविद्यालय परिनियम 31 और शासन के रोस्टर आरक्षण का पालन करते हुए हर साल समर पर पदोन्नति किया जाए।
वाहन भत्ता के नियम विरुद्ध वसूली की राशि को कार्य परिषद समन्वय समिति और राज्य शासन के निर्देश का सम्मान करते हुए वापस किया जाए।
विश्वविद्यालय में कर्मचारी समस्याओं के त्वरित निराकरण करने के लिए कार्यपरिषद में एक कर्मचारी प्रतिनिधि को शामिल किया जाए।
विश्वविद्यालय विनियम 91 में आंशिक संशोधन करते हुए प्रयोगशाला परिचारकों को प्रयोगशाला तकनीशियनों के पद पर पदोन्नति की जाए।
(TNS)