8 साल से चल रही धान खरीदी केंद्र अचानक बंद, नाराज किसान 13 दिसंबर को करेंगे चक्काजाम


बिलासपुर।
छत्तीसगढ़ में एक दिसंबर से धान खरीदी (Paddy Purchase) की जा रही है। इस बीच, बिलासपुर जिले के सिंघरी धान खरीदी उपकेंद्र ( Singhri Paddy Purchase Sub-Center) को अचानक बंद कर दिया गया और इसकी सूचना भी नहीं दी गई। इसके चलते अब किसानों को अपना धान बेचने के लिए करीब 7 किमी दूर जाना पड़ता है। इससे नाराज किसानों 13 दिसंबर को बिलासपुर-रतनपुर रोड ( Bilaspur-Ratanpur Road) पर चक्काजाम (Chakkajam) करने की चेतावनी दी है।

जानकारी के अनुसार बिल्हा जनपद पंचायत के सिंघरी गांव में लखराम खरीदी केंद्र का उपकेंद्र बनाया गया है। यहां बने केंद्र में 8 साल से धान की खरीदी हो रही थी। अचानक बंद करने के बाद ग्रामीणों ने कलेक्टर से शिकायत की है। सरपंच विश्वनाथ साहू ने बताया कि साल 2013 से यहां धान की खरीदी की जा रही थी। इस बार एक दिसंबर से शुरू हुई धान खरीदी में सिंघरी उपकेंद्र को अचानक बिना किसी सूचना के बंद कर दिया गया। हम इस खरीदी केंद्र को तत्काल शुरू करने की मांग करते हैं। इसखरीदी केंद्र में सिंघरी के साथ ही मदनपुर, भरवीडीह, खैरखुंडी गांव के किसानों की धान की खरीदी होती है।

अब लखराम केंद्र में धान खरीदी
इस खरीदी उपकेंद्र के अंतर्गत 950 पंजीकृत किसान है। इस मामले में जिला सहकारी बैंक के सीईओ प्रभात मिश्रा का कहना है कि धान खरीदी केंद्र लखराम है, जहां धान की खरीदी होती है। यहां समिति ने बिना किसी सूचना के सिंघरी में उपकेंद्र बना दिया था। इस बार समिति ने ही सिंघरी केंद्र को बंद कर एक ही जगह धान खरीदी करने का निर्णय लिया है, जिसका किसान विरोध कर रहे हैं।

(TNS)