ओमिक्रॉन का खतरा: देश के 12 राज्यों में फैला संक्रमण, जानें क्या कहता है विश्व स्वास्थ्य संगठन

Omicron

तीरंदाज डेस्क। देश में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है। महाराष्ट्र में लगातार नए मामलों में बढ़ोत्तरी देखी जा रही है। देश में ओमिक्रॉन का संक्रमण अब तक 12 राज्यों में दस्तक दे चुका है। इस मामले में महाराष्ट्र अव्वल नंबर पर है। वहीं राजधानी दिल्ली भी इससे अछूता नहीं हैं। यहां भी आमिक्रॉन के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। हालांकि छत्तीसगढ़ में फिलहाल आमिक्रॉन का एक भी मामला सामने नहीं आया है। छत्तीसगढ़ में फिलहाल कोरोना के नए मामलों में भी राहत मिल रही है।

ओमिक्रॉन की दहशत के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इसे लेकर चेतावनी जारी की है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि ओमिक्रॉन के मामले डेढ़ से तीन दिनों में दोगुने हो रहे हैं। जिस तेजी से यह वैरिएंट फैल रहा है उसे देखते हुए भारत जैसे देशों में दैनिक मामले 13 से 14 लाख तक पहुंच सकते हैं। समय रहते इसके प्रसार को कम करने सुरक्षा उपाय बेहद जरूरी हैं। इधर देश में ओमिक्रॉन के मामले 145 तक पहुंच गए हैं। सर्वाधिक 48 केस महाराष्ट्र में मिले। इसके बाद दिल्ली में 22, राजस्थान में 17, कर्नाटक में 14, तेलंगाना में 20, केरल में 11, गुजरात में 7, उत्तर प्रदेश में दो तथा आंध्र प्रदेश, चंडीगढ़, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में एक-एक व्यक्ति में ओमिक्रॉन संक्रमित मिला है।

कोरोना के सक्रिय मामलों में कमी
देश में ओमिक्रॉन खतरा बढ़ रहा है वहीं कोरोना के मामले तेजी से घट रहे हैं। देश में फिलहाल 83 हजार 913 सक्रिय मामले बचे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबक बीते 24 घंटों में देशभर में कोरोना संक्रमण के 7,081 मामले सामने आए। वहीं इस दौरान 264 लोगों की मौत भी हो गई। इस दौरान 7,469 लोग स्वस्थ भी हुए।  वहीं देश में अब तक कुल 3 करोड़ 41 लाख 78 हजार 940 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। देश में कोरोना से मरने वालों की संख्या 4 लाख  77 हजार 422 हो गई है।

इधर छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार कमी देखी जा रही है। बीत 24 घंटों में प्रदेश में 31 नए मामले सामने आए। इस दौरान पॉजिटिविटी रेट 0.22 फीसदी रही। इस बीच प्रदेश में कुल 28 मरीज स्वस्थ्य भी हुए हैं। प्रदेश में ओमिक्रॉन के खतरे को देखते हुए लगातार विदेशों से आने वालों की मॉनिटरिंग की जा रही है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार प्रदेश में अब तक पांच संदिग्धों की सैंपल जांच के लिए भुवनेश्वर भेजे गए जिनमें से दो की रिपोर्ट निगेटिव आई है। वहीं तीन की रिपोर्ट आनी अभी बाकी है।