राष्ट्रीय राजमार्गों के निर्माण में आने वाली बाधाएं दूर होंगी, राज्य हाईपॉवर कमेटी की बैठक में मुख्य सचिव ने कारणों को जाना

बैठक में राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं के निर्माण क्षेत्र में आने वाले इलाकों में भूमि मुआवजा का वितरण, छूटे हुए इलाकों में भू-अर्जन की प्रक्रिया को पूरा करने कहा। निजि क्षेत्रों में लगे वृक्षों की कटाई, वन भूमि के व्यपवर्तन, मार्ग चौड़ीकरण आदि के विषय में विस्तार से चर्चा की गई।

रायपुर (raipur)। प्रदेश के अनेक जिलों में आवागमन के साधनों को सुगम बनाने के लिए राज्य के साथ केंद्र की योजनाओं से अनेक मागोंं पर काम चल रहा है। कहीं चौड़ीकरण (Widening) को कहीं ओवरब्रिज (overbridge) का निर्माण किया जा रहा है। वहीं करोड़ों के प्रोजेक्ट में पुल-पुलिए बनाए जा रहे हैं। इनकी समीक्षा (review) के लिए मुख्य सचिव (Chief Secretary) अमिताभ जैन की अध्यक्षता में आज शुक्रवार को मंत्रालय (ministry) महानदी भवन में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (video conferencing) के जरिए राज्य स्तरीय हाई पावर कमेटी (State Level High Power Committee) की बैठक (meeting) हुई।

बैठक में राष्ट्रीय राजमार्ग की स्वीकृत एवं निर्माणाधीन कार्यों की समीक्षा के दौरान राज्य भर में राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजना के तहत बनाई जा र सड़कों के रखरखाव और मरम्मत के साथ नई सड़कों के निर्माण की स्वीकृति और प्रगति को लेकर चर्चा की गई। इस दौरान इन कार्यों में कहीं आ रही बाधाओं के कारणों की जानकारी लेकर उसके निराकरण के उपाय सुझाव लिए गए।

संवेदनशील क्षेत्रों में सुरक्षा के साथ हो निर्माण
इस दौरान जैन ने सड़कों एवं पुलियों के निर्माण कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए। संवेदनशील क्षेत्रों में सुरक्षा मुहैया कराने के निर्देश भी दिए गए। जैन ने सड़कों एवं पुलियों के निर्माण कार्य की नियमित मॉनिटरिंग करने के लिए कहा। इस संबंध में प्रति सप्ताह बैठक लेने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए।

छूटे हुए इलाकों में भू-अर्जन की प्रक्रिया पूरी कराएं
बैठक में राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं के निर्माण क्षेत्र में आने वाले इलाकों में भूमि मुआवजा का वितरण, छूटे हुए इलाकों में भू-अर्जन की प्रक्रिया को पूरा करने कहा। निजि क्षेत्रों में लगे वृक्षों की कटाई, वन भूमि के व्यपवर्तन, मार्ग चौड़ीकरण आदि के विषय में विस्तार से चर्चा की गई।

इन मार्गों पर चल रहा है काम
मुख्य रूप से बिलासपुर जिले के अंतर्गत बिलासपुर-उरगा मार्ग, कोरबा जिले के अंतर्गत पथरापाली-कटघोरा मार्ग, चांपा-कोरबा-छुरी-कटघोरा मार्ग, उरगा-पत्थलगांव मार्ग, रायपुर जिले के अंतर्गत रायपुर-विशाखापट्नम-भारतमाला परियोजना, रायपुर-सिमगा मार्ग, टाटीबंध फ्लाई ओव्हर का निर्माण कार्य, दुर्ग जिले के अंतर्गत दुर्ग रायपुर बायपास भारतमाला परियोजना के तहत निर्माण की प्रगति की भी जानकारी ली गई।

बलौदाबाजार जिले में काम
बलौदाबाजार जिले के अंतर्गत रायपुर-सिमगा चौड़ीकरण परियोजना, धमतरी जिले के अंतर्गत रायपुर-विशाखापट्नम भारतमाला परियोजना, बालोद जिले के अंतर्गत झलमला से शेरपारा चौड़ीकरण, राजनांदगांव जिले के अंतर्गत दुर्ग-रायपुर बायपास का निर्माण, महासमुंद जिले के अंतर्गत रायपुर-विशाखापट्नम मार्ग, कांकेर जिले के अंतर्गत रायपुर-विशाखापट्नम मार्ग, कोण्डागांव जिले के अंतर्गत रायपुर-विशाखापट्नम मार्ग, बस्तर जिले के अंतर्गत जगदलपुर-सुकमा-कोंटा मार्ग पर निर्माण की प्रगति की भी जानकारी ली गई।

सरगुजा जिले में काम
सरगुजा जिले के अंतर्गत अम्बिकापुर-पत्थलगांव मार्ग, जशपुर जिले के अंतर्गत कुनकुरी से छत्तीसगढ़-झारखण्ड बार्डर मार्ग, उरगा-पत्थलगांव मार्ग, बलरामपुर जिले के अंतर्गत अम्बिकापुर-बलरामपुर-रामानुजगंज मार्ग के निर्माण कार्यों की समीक्षा की गई। बैठक में नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के अंतर्गत प्रस्तावित सड़क निर्माण की प्रगति की भी जानकारी ली गई.

बैठक में ये हुए शामिल
बैठक में अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री सुब्रत साहू, सचिव लोक निर्माण सिद्धार्थ कोमल परदेशी, सचिव राजस्व एनएन एक्का, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (नक्सल) विवेकानंद सिन्हा, विशेष सचिव ऊर्जा अंकित आनंद, जांजगीर-चांपा जिले के कलेक्टर जितेन्द्र शुक्ला, बिलासपुर जिले की अपर कलेक्टर जयश्री जैन, भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के क्षेत्रीय अधिकारी एके मिश्रा सहित विभागीय वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए।

(TNS)