अब घर बैठे बनेंगे सभी सरकारी प्रमाण पत्र, CM बघेल ने किया ‘मुख्यमंत्री मितान योजना’ का शुभारंभ

CM बघेल ने किया ‘मुख्यमंत्री मितान योजना’ का शुभारंभ

रायपुर। सीएम भूपेश बघेल ने अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस पर 1 मई को वर्चुअल समारोह में ’मुख्यमंत्री मितान योजना’ का शुभारंभ किया। इस योजना के शुरू होने के बाद अब छत्तीसगढ़ के लोगों को घर बैठे ही सारी सुविधाएं मिलेंगी। यानि किसी भी प्रकार का प्रमाण पत्र बनाने के लिए लोगों को अब सरकारी दफ्तरों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। योजना के तहत घर बैठे लोगों को नागरिक सेवाएं मिलेंगी। पायलट प्रोजेक्ट के तहत 14 नगर निगमों में यह सेवा शुरू की गई है।

इससे पहले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने निवास कार्यालय से मितानों को टैबलेट वितरित कर उन्हें रवाना किया। इसके बाद कार्यालय पहुंचकर मुख्यमंत्री मितान योजना का विधिवत शुभारंभ किया गया। इस मौके पर नगरीय निकाय विभाग की सचिव द्वारा एक प्रेजेंटेशन भी दिया गया जिसमें यह बताया गया कि मितना योजना के तहत लोगों को सभी सुविधाएं घर बैठे कैसे मिलेंगी। इस प्रेजेंटेशन में सभी के कार्य बताए गए।

मितान को टेबलेट देते सीएम बघेल

घर बैठे बनेंगे यह प्रमाण पत्र
मुख्यमंत्री बघेल की सर्वोच्च र्प्राथमिकता वाली इस योजना के तहत प्राप्त सभी आवेदनों का मुख्यमंत्री मितान योजना के माध्यम से बिना प्राथमिकता के आधार पर कार्रवाई की जाएगी। संबंधित आवेदकों को प्रमाण पत्र ’मितान’ की ओर से उनके घर पर प्रदान किए जाएंगे। इस योजना के तहत कई तरह की सेवाएं घर बैठे मिलेंगी।

सीएम ने मितानों को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

लोगों को मूल निवास प्रमाण पत्र, जाति प्रमाणपत्र, आय प्रमाण पत्र, दस्तावेज़ के नकल के लिए अनुरोध, गैर-डिजिटाइज्ड (भूमि रिकॉर्ड आदि की प्रति), जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र, विवाह पंजीकरण और प्रमाणपत्र, दुकान पंजीकरण, भूमि की जानकारी, जन्म प्रमाणपत्र सुधार, मृत्यु प्रमाणपत्र सुधार, विवाह प्रमाणपत्र सुधार आदि नागरिक सेवाएं घर बैठे प्रदान की जाएंगी।

14 निगमों में शुरू हुई योजना
प्रथम चरण में ये योजना प्रदेश के 14 नगर निगमों में लागू की जा रही है। जिसके तहत नागरिकों को विभिन्न विभागों की सेवाओं का लाभ उनके घर पर मितान के माध्यम से निर्धारित समय-सीमा में पूर्ण पारदर्शिता के साथ उनके डोर-स्टेप पर प्रदान की जाएगी। सेवाओं के लिए मितान टोल फ्री नंबर 14545 पर कॉल करना होगा। मितान योजना की सारी प्रक्रिया डिजिटली रहेगी।