चित्र भारती राष्ट्रीय लघु फिल्म उत्सव-2022 के मोबाइल एप का लोकार्पण

लोकार्पण अवसर पर ‘भारतीय सिनेमा, इन्टरनेट, ओटीटी- भविष्य की दिशा’ विषय पर परिसंवाद का भी आयोजन किया गया। मुख्य वक्ता एवं वरिष्ठ पत्रकार प्रखर श्रीवास्तव ने कहा कि ओटीटी प्लेटफार्म का सहारा लेकर एक विचारधारा भारतीय संस्कृति एवं राष्ट्रीयता की जड़ें खोदने का काम कर रही है।

 

भोपाल। भारतीय चित्र साधना के प्रतिष्ठित ‘चित्र भारती राष्ट्रीय लघु फिल्मोत्सव-2022 (सीबीएफएफ-2022)’ के एप का लोकार्पण समारोह हुआ। इस अवसर पर ‘भारतीय सिनेमा, इन्टरनेट, ओटीटी – भविष्य की दिशा’ विषय पर वक्ताओं ने अपने विचार रखे।

इस दौरान मध्यप्रदेश शासन के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि चित्र भारती राष्ट्रीय विचार और भाव को लेकर चल रही है। सिनेमा में भारतीय विचार को प्राथमिकता मिले, यह आज की आवश्यकता है। इस दौर में फ़िल्मी जगत की जो स्थिति बनी है, उसमें चित्र भारती फिल्म फेस्टिवल जैसे आयोजनों की आवश्यकता है।

भारत भवन में आयोजित चित्र भारती के एप लोकार्पण के अवसर पर फिल्म फेस्टिवल की आयोजन समिति के अध्यक्ष दिलीप सूर्यवंशी, प्रख्यात अभिनेता पवन मल्होत्रा और जनसंपर्क आयुक्त सुदाम खाडे भी उपस्थित रहे।

मध्यप्रदेश को लेकर भारतीय सिनेमा में पैदा हो रहा है नया विश्वास : दिलीप
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे दिलीप सूर्यवंशी ने कहा कि मध्यप्रदेश और भोपाल को लेकर भारतीय सिनेमा में एक नया विश्वास पैदा हो रहा है। बड़े फ़िल्म निर्देशक मध्यप्रदेश में अपनी फिल्मों की शूटिंग के लिए आ रहे हैं।

कार्यक्रम के पूर्व में स्वागत उद्बोधन जनसंपर्क आयुक्त डॉ. सुदाम खाडे ने दिया। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में फ़िल्म निर्माण का वातावरण बन रहा है। राष्ट्रीय स्तर का यह आयोजन मध्यप्रदेश के लिए महत्वपूर्ण होने वाला है।

छोटे शहरों/कस्बों की प्रतिभाएं हैं मुंबई में : श्री पवन मल्होत्रा
विशिष्ट अतिथि एवं फिल्म अभिनेता श्री पवन मल्होत्रा ने कहा- आप मुंबई आकर देखिये कि छोटे शहरों/कस्बों की लड़कियां और लड़के शो चला रहे हैं। सिनेमा जगत के महत्वपूर्ण कार्य इसी तरह के नौजवान कर रहे हैं। अपनी प्रतिभा को पहचाने, अवसर आपकी प्रतीक्षा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि शॉर्ट फिल्म में निर्माता को बहुत सीमित समय में अपनी बात कहनी होती है। सिनेमा के माध्यम से संस्कृति संवर्धन की बात करते हुए श्री मल्होत्रा ने कहा कि हमारी संस्कृति नहीं बचेगी तो हम भी नहीं बचेंगे।

फिल्म फेस्टिवल की सम्पूर्ण जानकारी ‘चित्र भारती एप’ पर : श्री चाणक्य शुक्ला
समारोह में लोकार्पित चित्र भारती फिल्म फेस्टिवल से सम्बंधित एप की जानकारी देते हुए श्री चाणक्य शुक्ला ने कहा कि चित्र भारती का यह एप नि:शुल्क डाउनलोड किया जा सकता है। यह एप एंड्राइड और आईओएस ऑपरेटिंग सिस्टम वाले मोबाइल फोन पर उपयोग किया जा सकेगा। इस एप पर फिल्म फेस्टिवल की सम्पूर्ण जानकारी रहेगी। इसके साथ ही एप पर पंजीयन कर फ़िल्म फेस्टिवल के वॉलेंटियर बन सकते हैं।

फेस्टिवल में आई 600 से अधिक फ़िल्में : श्री अतुल गंगवार
भारतीय चित्र साधना के महासचिव अतुल गंगवार ने बताया कि 18 से 20 फरवरी, 2022 को भोपाल में होने जा रहे चित्र भारती राष्ट्रीय लघु फिल्म उत्सव के लिए देशभर से 600 से अधिक शार्ट फ़िल्में प्राप्त हो चुकी हैं। उन्होंने बताया कि चित्र भारती के माध्यम से फ़िल्म के क्षेत्र में नई ऊर्जा के साथ युवाओं को लाने का प्रयास किया जा रहा है।

देश और समाज हित में ओटीटी प्लेटफार्म पर नियंत्रण आवश्यक
चित्र भारती के एप लोकार्पण के अवसर पर ‘भारतीय सिनेमा, इन्टरनेट, ओटीटी- भविष्य की दिशा’ विषय पर परिसंवाद का भी आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य वक्ता एवं वरिष्ठ पत्रकार प्रखर श्रीवास्तव ने कहा कि ओटीटी प्लेटफार्म का सहारा लेकर एक विचारधारा भारतीय संस्कृति एवं राष्ट्रीयता की जड़ें खोदने का काम कर रही है। जब हम वर्तमान को नहीं देखेंगे, उसे सुधरेंगे नहीं तो भविष्य की चिंता कैसे करेंगे। भविष्य को सुधारना है तब आवश्यक है ओटीटी प्लेटफॉर्म पर नियंत्रण लगाया जाए।

इस अवसर पर सोशल मीडिया विशेषज्ञ नितिन शुक्ला ने कहा कि आज प्रत्येक व्यक्ति सिनेमा की पहुंच में है। पहले सिनेमा पर कुछ लोगों का विशेषाधिकार था लेकिन सोशल मीडिया जैसे नए माध्यमों ने इस वर्चस्व को तोड़ दिया। अब साधारण लोग अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा रहे हैं। उनके काम को करोड़ों व्यूज और लाइक मिल रहे हैं।

इस अवसर पर माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. केजी सुरेश एवं संस्कृति विभाग के संचालक अदिति कुमार त्रिपाठी भी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन शुभम चौहान तामोट ने किया और आभार प्रदर्शन आयोजन समिति के सचिव अमिताभ सोनी ने किया। कार्यक्रम में फिल्म और कला क्षेत्र के प्रमुख लोग एवं विभिन्न शिक्षा संस्थाओं के युवा फिल्म निर्माता और विद्यार्थी उपस्थित रहे।

(TNS)