चार दिन बंद रहा इंटरनेट तो यूजर ने मोबाइल कंपनी पर ही कर दिया केस, कहा- वापस चाहिए 72 घंटे का डाटा… जानें क्या है यह मामला

सांकेतिक फोटो

तीरंदाज, डेस्क। तीन दिन तक इंटरनेट सेवा बंद रहने से एक यूजर इस कदर परेशान हुआ कि उसने मोबाइल कंपनी पर ही केस ठोक दिया। उसने कंज्यूमर कोर्ट में मोबाइल कंपनी के खिलाफ केस दर्ज कराते हुए 72 घंटे का डाटा वापस मांगा है। इसके पीछे यूजर का तर्क भी एकदम सटीक है। फिलहाल इस मामले में कंज्यूमर कोर्ट में सुनवाई होनी बाकी है।

यह पूरा मामला बिहार के भोजपुर जिले का है। बीतें दिनों अग्निपथ योजना के कारण पूरा बिहार सुलग रहा था। युवा सड़कों पर उतर आए और ट्रेनों व बसों को आग लगा रहे थे। इस दौरान प्रशासन से अफवाहों को रोकने के लिए सभी संवेदनशील क्षेत्रों में इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी थी। चार दिन तक लगभग 72 घंटे इंटरनेट सेवा बंद रही है। सरकार के इस निर्णय से लोग इस बीच इंटरनेट इस्तेमाल कर नहीं पाए।

यूजर ने कर दिया कंपनी पर केस
मोबाइल डाटा यूज नहीं कर पाने वाले बिहार के भोजपुर जिले के शंकर प्रकाश नामक युवक ने चार दिनों का अपना बचा हुआ डाटा टेलीकॉम कंपनी से वापस मांगा है। इसके लिए उसने मंगलवार को जिले उपभोक्ता फोरम में केस दर्ज करवाया। कंज्यूमर कोर्ट ने उसका मामला सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया है। हालांकि अभी इस पर सुनवाई नहीं हुई है। कंज्यूमर कोर्ट में केस दर्ज कराने वाले यूजर ने बताया कि इंटरनेट बंदी का नुकसान मोबाइल उपभोक्ताओं को झेलना पड़ा है.

यूजर ने बताया कि टेलीकाम कंपनियां जो प्रीपेड प्लान ऑफर करती हैं उसमें प्रतिदिन उपलब्ध कराने वाले डाटा का पैसा पहले ही ले लिया जाता है। यूजर्स को उसके प्लान के अनुसार डाटा दिया जाता है। चुंकि चार दिन यहां इंटरनेट सेवा बंद रही तो हमारा डाटा तो इस्तेमाल हुआ नहीं। जिस डाटा के लिए हमने पैसे चुकाए हैं वह डाटा तो हमें मिलना ही चाहिए। यूजर ने कहा कि इसलिए हमने अपना डाटा वापस पाने के लए मोबाइल कंपनी के खिलाफ केस दर्ज किया है।

20 जिलों में बंद की गई थी इंटरनेट सेवा
अग्निपथ योजना पर बवाल को देखते हुए बिहार के 20 जिलों में इंटरनेट सेवा पर रोक लगाई गई थी। इन शहरों में फेसबुक, वाट्सएप, ट्विटर व अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म के माध्यम से ही अफवाह फैलाई जा रही थी। इन अफवाहों को रोकने के लिए सरकार ने इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी थी।