पाटेश्वर धाम से जुड़े मंदिर में बकरा व मुर्गों की बली पर मचा बवाल, दो पक्षों में हुई जमकर मारपीट, देर रात तक डटी रही पुलिस

बालोद जिले के मंचुआ थाना क्षेत्र की घटना, सुबह पूजा के बाद चढ़ाई थी ग्रामीणों ने बली, दोपहर बाद हिंदं धर्म के समर्थको ने गांव में पहुंचकर किया बवाल।

बवाल के बाद मौके पर बिखरे पत्थर

तीरंदाज, बालोद। यहां रविवार को मंदिर में बली चढ़ाने को लेकर जमकर बवाल हुआ। यह मंदिर पाटेश्वर धाम से जुड़ा हुआ और इस मंदिर में एक गांव के आदिवासियों ने अपनी परंपरागत पूजा के दौरान बकरे व मुर्गियों की बली चढ़ाई। जैसे ही इसकी भनक हिन्दू संगठनों को लगी वे गांव पहुंच गए और जमकर बवाल हुआ। बताया जाता है कि दोनों पक्षों में लाठी डंडे चले और पत्थरबाजी भी हुई। सूचना के बाद देर रात तक यहां पुलिस डटी रही।

घटना जिले के मंचुआ थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम तुएगोंदी का बताया जा रहा है। मंदिर में बली को लेकर दो पक्षों में मारपीट हुई। लाठी डंडे भी चले। इस दौरान करीब आधा दर्जन लोग घायल हो गए हैं। घटना की जानकारी मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मामला शांत कराने पहुंचे। रविवार को देर रात तक यहां का माहौल तनावपूर्ण रहा और पुलिस की टीमें यहां मौजूद रही। यहां तक की एसपी जीआर ठाकुर व आईजी दुर्ग बद्रीनारायण मीणा भी मौके पर पहुंचे थे।

पाटेश्वर धाम से जुड़े मंदिर में बकरा व मुर्गियों की बली पर मचा बवाल

मिली जानकारी के अनुसार पाटेश्वर धाम मंदिर से से जुडे पहाड़ी वाले मंदिर में तुएगोंदी गांव के आदिवासी ग्रामीण पूजा पाठ करने पहुंचे थे। बताया जा रहा है कि यहां पर आदिवासियों के देवता का भी वास है इसलिए उन लोगों ने अपनी परंपरा के अनुसार बकरा व मुर्गियों की बली चढ़ाई। इसकी जानकारी मिलने के बाद पाटेश्वर धाम से जुडे हिंदुवादी लोग तुआगोंधी गांव पहुंचकर जमकर हंगामा किया। इसके बाद दोनों पक्षों में विवाद बढ़ गया।

घटना की सूचना मिलने के बाद मंचुआ थाना सहित आसपास के थानों से पुलिस बल वहां पहुंच गया। पुलिस ने स्थिति संभाली और घटना में घायल लोगों को अस्पताल पहुंचाया गया। वहीं कुछ लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है जिनसे पूछताछ की जा रही है। गांव में तनाव पूर्ण स्थिति को देखते हुए पुलिस बल को तैनात किया गया जो कि सोमवार को भी गांव में तैनात रही।

अभी माहौल शांत है विवेचना जारी है
इस मामले में बालोद के एसपी गोवर्धन राम ठाकुर ने बताया कि बली को लेकर गांव में तनाव हो गया था। हिंदु संगठन के लोगों व गांववालों के बीच विवाद हुआ। कुछ ग्रामीणों को चोट लगी थी वे अब ठीक हैं। फिलहाल माहौल शांत है और घटना की विवेचना की जा रही है। 

6 दिन पहले कांकेर मे भी हुआ था बवाल
6 दिन पहले कांकेर जिले में भी इसी प्रकार का बवाल सामने आया था। यहां के ग्राम पंचायत माकड़ी स्थित सिंगराय में देवी मंदिर में गांव के बंशीलाल यादव नाम के व्यक्ति ने बकरे की बलि दी थी। गांव वालों को पता चला तो भड़क गए हैं। ग्रामीणों का कहना था इससे मंदिर का जल कुंड भी अशुद्ध हो गया है। इसके बाद बंशीलाल पर कार्रवाई की मांग को लेकर सरपंच सांवतराम नेताम के नेतृत्व में सैकड़ों ग्रामीण थाने पहुंचे थे।