पत्रकारिता के क्षेत्र में अपार संभावनाएं, बस हमें लोगों की जरूरतों का रखना होगा ध्यान : डॉ. नरेन्द्र

धरसींवा कॉलेज में 11 दिवसीय मूल्यवर्धित पाठ्यक्रम के समापन पर प्रतिभागियों को बांटे गए प्रमाण पत्र

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय के डॉ. नरेंद्र त्रिपाठी का सम्मान करतीं पंडित श्यामाचरण शुक्ल महाविद्यालय धरसींवा की प्राचार्या डॉ. विनोद शर्मा।


धरसींवा।
पंडित श्यामाचरण शुक्ल महाविद्यालय धरसींवा (Pandit Shyamacharan Shukla Mahavidyalaya Dharsiwa) के हिंदी विभाग द्वारा आयोजित मूल्यवर्धित पाठ्यक्रम का आज समापन हो गया। इस मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय (Kushabhau Thackeray Journalism and Mass Communication University) के इलेक्ट्रॉनिक एवं मीडिया विभाग के प्रमुख डॉ. नरेन्द्र त्रिपाठी ने कहा कि पत्रकारिता के क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं, बस हमें लोगों की जरूरतों का ध्यान रखना होगा। हमें जानना होगा कि पाठक की रुचि अब किन विषयों में है। पाठकों की रुचि के मुताबिक सामग्री प्रस्तुत करके हम पत्रकारिता के क्षेत्र में मजबूत जगह बना सकते हैं।

इस मौके पर अतिथियों एवं प्राचार्य ने प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र वितरित किये।

मुख्य अतिथि डॉ. त्रिपाठी ने प्रतिभागियों से कहा कि वे भविष्य की जरूरतों को समझें और योजनाबद्ध तरीके से काम करें। विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद पत्रकार, शायर और वेब मीडिया एडवाइजर मयंक चतुर्वेदी मानस (mayank chaturvedi manas) ने न्यू मीडिया पर व्याख्यान दिया। कार्यक्रम में कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय की रेडियो संवाद (90.8 एफएम) कर कार्यक्रम अधिकारी सुश्री बॉबी राजपूत ने प्रतिभागियों को अपने व्यक्तित्व के विकास व रेडियो पत्रकारिता क्षेत्र में ध्यान रखने वाली बातों की ओर ध्यानाकर्षित कराया।

इस मौके पर अतिथियों एवं प्राचार्य ने प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र वितरित किये।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रही महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ. विनोद शर्मा (Principal Dr. Vinod Sharma) ने कार्यक्रम के सफल संचालन के लिए सभी की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस तरह के पाठ्यक्रम भविष्य में भी संचालित होते रहेंगे। इसके पूर्व कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि, विशिष्ट अतिथि व प्राचार्य द्वारा माँ सरस्वती की मूर्ति के समक्ष दीप प्रज्जवलन व वन्दना के साथ किया गया। कार्यक्रम के संयोजक डॉ. सीएल साहू ने अतिथियों का परिचय कराते हुए पूरे पाठ्यक्रम की जानकारी दी। 11 दिन चले पाठ्यक्रम का प्रतिवेदन बीएससी अंतिम की छात्रा माया मानिकपुरी ने प्रस्तुत किया। जबकि फीडबैक मनीष कुमार नेताम ने पेश किया।

इस मौके पर प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र वितरित किये।

धन्यवाद ज्ञापित करते हुए डॉ. सीएल साहू ने अतिथियों, महाविद्यालय के कर्मचारी सागर मैथ्यूज, उमेश वर्मा, देवाशीष प्रधान, डॉ. शबनूर सिद्दीकी, कल्पना पांडेय, पत्रिका के स्थानीय संवाददाता प्रफुल्ल वर्मा का विशेष रूप से आभार प्रकट किया। कार्यक्रम का समापन बीए तृतीय वर्ष की छात्रा कुमारी मालती द्वारा राज्य गीत ‘अरपा पैरी के धार” के गायन के साथ हुआ। इस अवसर पर महाविद्यालय के विज्ञान संकाय के प्रभारी व वरिष्ठ सहायक प्राध्यापक कौशल किशोर, हिंदी विभाग के जनभागीदारी शिक्षक शीतल वर्मा भी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन बीए तृतीय वर्ष के छात्र नवीन व अमन ने किया।


(TNS)