उत्तर प्रदेश में कांग्रेस सत्ता में आई, तो गन्ने का समर्थन मूल्य होगा 400 रुपए प्रति क्विंटलः मुख्यमंत्री बघेल

कुर्मीं सम्मेलन में भाग लेने के लिए सीएम बघेल यूपी पहुंचे हैं। जहां वे मीडियाकर्मियों के सवालों का जवाब देते हुए आगे कहा कि यहां सत्ता में आने पर कांग्रेस किसानों को गन्ने का समर्थन मूल्य 400 प्रति क्विंटल देगी। यहां सत्ता और संगठन में समन्वय के अभाव में कानून व्यवस्था की स्थिति बिगड़ चुकी है।

रायपुर(यूपी)। छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल उत्तर प्रदेश के दौरे पर हैं। वे बांदा में पत्रकारों से चर्चा करते हुए मीडियाकर्मियों (media persons) के सवालों का जवाब दिए। बघेल ने कहा विधानसभा चुनाव 2022 में कांग्रेस यूपी की वर्तमान भाजपा सरकार को उनकी नीतियों के आधार पर जनता तक पहुंचकर उसे सत्ता से उतारेगी। सीएम ने कहा उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में कांग्रेस का जनाधार बढ़ रहा है।

सीएम बघेल ने आगे कहा मांगों को लेकर देश में किसानों का शब्द आंदोलन लंबे समय से चल रहा है। बावजूद केंद्र सरकार (central government) द्वारा कृषि बिल कानून (agriculture bill law) वापस नहीं लिया जा रहा है। इस वजह से किसानों का बड़ा नुकसान हो रहा है। पूरे देश में हालात बदतर हो चुके हैं।

यहां सत्ता और संगठन में समन्वय का अभाव
बता दें कि कुर्मीं सम्मेलन (Kurmi Conference) में भाग लेने के लिए सीएम बघेल यूपी पहुंचे हैं। जहां वे मीडियाकर्मियों के सवालों का जवाब देते हुए आगे कहा कि यहां सत्ता में आने पर कांग्रेस (Congress) किसानों को गन्ने का समर्थन मूल्य 400 प्रति क्विंटल देगी। यहां सत्ता और संगठन में समन्वय के अभाव में कानून व्यवस्था की स्थिति बिगड़ चुकी है।

गठबंधन का निर्णय हाईकमान लेगा
गठबंधन के एक सवाल पर सीएम बघेल ने कहा कि यह निर्णय पार्टी हाईकमान को लेना है। समाजवादी पार्टी के अखिलेश यादव व बहुजन समाज पार्टी की मायावती ने पहले ही कांग्रेस का समर्थन लेने से विधानसभा चुनाव में मना कर दिया है। प्रत्याशियों के चयन में हाईकमान निर्णय लेना।

कंगना का आरएसएस की सोच को उजागर करता है
वहीं सीएम ने फिल्म अभिनेत्री कंगना राणावत के संबंध में सवाल पर कहा कि कंगना को इतिहास की बिल्कुल जानकारी नहीं है। उसे पहले स्वतंत्रता आंदोलन का पूर्ण रूप से अध्ययन करना चाहिए उसके बाद ही बयान दे। उसका बयान आरएसएस की सोच को उजागर करता है। आरएसएस का देश के प्रति कोई योगदान नहीं है।

नक्सल समस्या का हल नागरिकों से निकलेगा
छत्तीसगढ़ में नक्सल समस्या पर कहा कि यह समस्या महाराष्ट्र, ओडिशा, आंध्र प्रदेश से जारी है। राज्य शासन द्वारा गंभीर प्रयास किया जा रहा है। आने वाले समय में नक्सल समस्या का हल उसी क्षेत्र के नागरिकों से निकलेगा।

(TNS)