राष्ट्रपति के हाथों सम्मानः पंथी नर्तक डॉ. राधेश्याम बारले को मिला पद्मश्री

रायपुर (Raipur)। इस बार देश के सर्वोच्च पुरस्कारों में छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के ख्यातिलब्ध लोगों का भी नाम रहा। ख्याति प्राप्त पंथी नर्तक डॉ. राधेश्याम बारले (Radheshyam Barle) को इस बार देश के प्रतिष्ठित सम्मान (Honor) पद्मश्री (Padma Shri) से सम्मानित किया गया। सोमवार को दिल्ली के राष्ट्रपति भवन में समारोह आयोजित हुआ। समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों यह पुरस्कार मिला।

डॉ. राधेश्याम बारले छत्तीसगढ़ के ख्याति प्राप्त पंथी नर्तक हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पंथी नृत्य (panthi dance) के माध्यम से उन्होंने बाबा गुरू घासीदास (Baba Guru Ghasidas) के संदेशों (messages) को देश-दुनिया (country and world) में प्रचारित और प्रसारित करने का काम किया है। डॉ. बारले को उनकी कला साधना के लिए इससे पहले भी कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। राधेश्याम बारले दुर्ग जिले के पाटन (Patan) ब्लॉक क्षेत्र के खोला गांव निवासी हैं।

बता दें कि पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्म श्री को देश का सबसे बड़ा सम्मान माना जाता है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा विभिन्न राज्यों के 119 लोगों को साल 2021 के पद्म पुरस्कारों से मंगलवार को सम्मानित किया गया। जिसमें 7 पद्म विभूषण, 10 पद्म भूषण और 102 पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किए। सम्मान पाने वालों की सूची में 29 महिलाएं, 16 मरणोपरांत और 1 ट्रांसजेंडर शामिल हैं।
(TNS)