कहर : केरल में 10 बांधों के लिए रेड अलर्ट, 20 राज्यों में भारी बारिश की संभावना

पतनमथिट्टा। दो दिनों से चल रहा भारी बारिश का सितम अगले कुछ और दिनों तक जारी रहेगा और इसकी जद में उत्तर-पूर्व के सभी राज्यों, उत्तर भारत और दक्षिण भारत के अधिकांश राज्य रहेंगे। मौसम विभाग के वरिष्ठ विज्ञानी नरेश कुमार के अनुसार देश के कम से कम 20 राज्यों में अगले कुछ दिन भारी बारिश की आशंका बनी हुई है।

केरल में हो रही जबर्दस्त बारिश से नदियों, तालबों का जलस्तर बढऩे के कारण 10 बांधों के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है। खतरे को देखते हुए काकी डैम के दो शटर को खोल दिया गया है। राज्य सरकार ने तबाही के कारण सबरीमाला में भगवान अयप्पा मंदिर को फिलहाल बंद रखने का निर्णय लिया है।

डेमों में दबाव कम करने छोड़ा पानी
राज्य के राजस्व मंत्री के राजन ने सोमवार को पतनमथिट्टा के कलक्ट्रेट में समीक्षा बैठक और हालात का आकलन किया।मौसम विभाग द्वारा 20 अक्तूबर को भारी बारिश के पूर्वानुमान को देखते हुए लिया गया है। पानी नहीं छोड़ा गया तो हालात और बिगड़ सकते हैं। जिले में 8& कैम्प बनाए हैं, 10 बांधों में काकी, शोलयार, मातुपट्टी, मूझियार, कुंडाला और पीची सहित Óयादातर पतनमथिट्टा, इडुकी और त्रिशूर जिले में स्थित हैं। इसके अलावा आठ अन्य डैम के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।


1960 के बाद सबसे अधिक बारिश
मौसम विभाग के वरिष्ठ विज्ञानी नरेश कुमार के अनुसार, देश के कम से कम 20 राÓयों में अगले कुछ दिन भारी बारिश की आशंका बनी हुई है। दिल्ली में अक्तूबर महीने में 1960 के बाद से अब तक की सबसे अधिक 94.6 एमएम बारिश दर्ज की जा चुकी है।

मध्यप्रदेश और पश्चिम बंगाल में दो कम दबाव के क्षेत्र बने
कुमार के अनुसार, देश में अभी मध्यप्रदेश और पश्चिम बंगाल में दो कम दबाव के क्षेत्र बने हुए हैं जबकि अफगानिस्तान में पश्चिमी विक्षोभ के कारण दिल्ली और इससे सटे राज्यों में बारिश हो रही है। इस पश्चिमी विक्षोभ के कारण उत्तराखंड और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भारी बारिश होगी जबकि बंगाल के कम दबाव के क्षेत्र का असर उत्तर पूर्व के राÓयों पर पड़ेगा, जिस कारण केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु में भारी बारिश हो सकती है।
(TNS)