पशुपालकों में खुशीः गोधन न्याय योजना में मुख्यमंत्री ने ऑनलाइन जारी की तीन करोड़ की राशि

गोधन न्याय योजना के तहत इस राशि में 15 से 30 नवम्बर तक राज्य के गौठानों में पशुपालक ग्रामीणों, किसानों, भूमिहीनों से क्रय किए गए गोबर के एवज में 2 करोड़ 44 लाख रूपए भुगतान किया गया। इसमें गौठान समितियों और महिला समूहों को 48 लाख रुपए की लाभांश राशि शामिल है।

रायपुर (Raipur)। पशुपालक और महिला समूहों में उस समय खुशी छा गई जब मुख्यमंत्री (Chief Minister) भूपेश बघेल ने गोधन न्याय योजना (Godhan Nyay Yojana) में करोड़ों की राशि जारी की। रविवार को यहां अपने निवास कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में सीएम भूपेश बघेल ने गोधन न्याय योजना के तहत 2 करोड़ 92 लाख रुपए की राशि ऑनलाइन (online) जारी की। लाभान्वित होने वालों में पशुपालक ग्रामीण (pastoral villager), गौठानों से जुड़े महिला समूह (women’s group) और गौठान समिति (Gothan Committee) शामिल हैं।

पशुपालक, किसानों से खरीदे थे गोबर
गोधन न्याय योजना के तहत इस राशि में 15 से 30 नवम्बर तक राज्य के गौठानों में पशुपालक ग्रामीणों, किसानों, भूमिहीनों से क्रय किए गए गोबर के एवज में 2 करोड़ 44 लाख रूपए भुगतान किया गया। इसमें गौठान समितियों और महिला समूहों को 48 लाख रुपए की लाभांश राशि शामिल है। इस योजना के तहत अब तक 111 करोड़ 56 लाख रुपए जारी किए जा चुके हैं।

परिवार के आवश्यक चीजों की कर रहे आपूर्ति
बता दें कि इस योजना के तहत गांवों में जगह-जगह फैले पशुओं के गोबर को इकट्ठा कर बहुत से ग्रामीण लाभ उठा रहे हैं। शासन की गो धन योजना में गोबर बेचकर राशि इकट्ठा कर रहे हैं। इससे उनके परिवार का जरूरी खर्च करने में उन्हें मदद मिल रही है।

ये रहे मौजूद
इस अवसर पर कृषि मंत्री (Minister of Agriculture) रविंद्र चौबे, राज्यसभा (Rajya Sabha MP) सांसद छाया वर्मा, राज्य खनिज विकास निगम के अध्यक्ष गिरीश देवांगन, मुख्यमंत्री के सलाहकार प्रदीप चौबे, मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, कृषि उत्पादन आयुक्त डॉ कमलप्रीत सिंह, विशेष सचिव कृषि और गोधन न्याय योजना के नोडल अधिकारी डॉ एस भारती दासन और जनसम्पर्क आयुक्त दीपांशु काबरा सहित सम्बंधित वरिष्ठ अधिकारी बैठक में उपस्थित थे।
(TNS)