स्वास्थ्यकर्मियों को तोहफाः कोरोना काल में सेवा देने वाले अस्थाई कर्मियों को भर्ती में मिलेगी प्राथमिकता

बता दें कि छत्तीसगढ़ में कोरोना काल के दौरान बड़ी संख्या में स्वास्थ्य सेवकों की जरूरत पड़ी थी। उस समय प्रदेशभर के शासकीय अस्पतालों में अनेक तरह के स्वास्थ्यगत, चिकित्सागत कार्यों को जान जोखिम में डालकर बड़ी संख्या में स्वास्थ्य सेवक काम किए हैं।

रायपुर। छत्तीसगढ़ में कोरोना काल में सेवा देने वाले अस्थाई स्वास्थ्य कर्मियों को भर्ती में प्राथमिकता दी जाएगी। राज्य शासन के आदेश पर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने उक्त निर्णय लिया है। कोरोना काल में लगातार 6 महीने सेवा देने वाले अस्थाई स्वास्थ्य कर्मियों को विभाग में तृतीय और चतुर्थ वर्ग कर्मचारियों के पदों में भर्ती के दौरान प्राथमिकता के तहत 10 बोनस अंक का लाभ दिया जाएगा।

राज्य शासन से जारी आदेश से उक्त जानकारी मिली है। आदेश अनुसार इसके साथ ही अस्थाई स्वास्थ्य कर्मियों की मांगों पर विचार करने के लिए सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा गठित समिति की अनुशंसा के आधार पर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने बड़ा फैसला लिया है।

जान जोखिम में डालकर दी सेवा
बता दें कि छत्तीसगढ़ में कोरोना काल के दौरान बड़ी संख्या में स्वास्थ्य सेवकों की जरूरत पड़ी थी। उस समय प्रदेशभर के शासकीय अस्पतालों में अनेक तरह के स्वास्थ्यगत, चिकित्सागत कार्यों को जान जोखिम में डालकर बड़ी संख्या में स्वास्थ्य सेवक काम किए हैं।

दिए जाएंगे 10 अंक बोनस
इसीलिए उन्हें इस विभाग में आगे होने वाली भर्ती में प्राथमिकता देने का निर्णय लिया गया है। कोरोना वैश्विक महामारी के दौरान राज्य के विभिन्न शासकीय स्वास्थ्य संस्थाओं में नियुक्त और 6 महीने तक लगातार सेवा देने वाले अस्थाई स्वास्थ्य कर्मियों को स्वास्थ्य विभाग के तृतीय एवं चतुर्थ वर्ग कर्मचारियों के पदों पर चयन के दौरान दस बोनस अंकों का लाभ दिए जाने का निर्णय लिया है।

(TNS)