सरगुजा से जशपुर पहुंचे 32 हाथियों के दल ने पांच दर्जन से अधिक ग्रामीणों की फसलें रौंदी

हाथियों की आक्रामकता को देखते हुए वन अमला लगातार हाथियों पर नजर रख रहा है

जशपुर में हाथियों के गुजरने के बाद खेत का हाल.

जशपुर। जशपुर जिले में तीन दिनों से उत्पात मचा रहे 32 हाथियों के दल ने अब ग्रामीणों का जीवन बर्बाद कर दिया है। सूरजपुर से सरगुजा होते हुए 32 हाथियों के दल ने अब जशपुर जिले में तीन दिनों में पांच दर्जन से ज्यादा किसानों की फसलों को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया है। हाथियों का दल बगीचा वन परिक्षेत्र में विचरण कर रहा है। हाथियों के दल में दो बच्चे भी शामिल हैं, जिससे हाथियों का दल काफी आक्रामक बना हुआ है। सरगुजा जिले में कई दिनों तक आतंक मचाने के बाद अब हाथियों का दल जशपुर जिले में प्रवेश कर गया है।

सरगुजा जिले की सीमा से लगे बगीचा वन परिक्षेत्र के सामरबार जंगलों से होते हुए हाथियों का यह दल पेटा सोनपुर होते हुए झिंकी के जंगलों में पहुंच गया है। हाथियों की आक्रामकता को देखते हुए वन अमला लगातार हाथियों पर नजर रख रहा है और ग्रामीणों को हाथियों से दूर रहने की सलाह दे रहा है। हाथियों के दल ने जिले में प्रवेश करने के बाद अब तक पाँच दर्जन से अधिक ग्रामीणों की कई एकड़ में लगे धान, मक्का अन्य फसलों और सब्जियों को भी नष्ट कर दिया है।

वहीं, झिंकी के जिस जंगल में हाथियों के दल ने अपना डेरा जमाया है। उसके आसपास कई एकड़ में धान, मक्के समेत सब्जियों की खेती की गई है।हाथियों से अपनी फसलों को बचाने किसान अब युद्धस्तर में मजदूर लगाकर धान की फसल की कटाई करवाकर धान को सुरक्षित जगहों तक पहुंचा रहे हैं। वन विभाग के एसडीओ एस के गुप्ता ने भी मौके पर पहुंचकर हाथियों की स्थिति और फसलों के नुकसान की जानकारी ली। वहीं ग्रामीणों को हाथियों से दूर रहने की समझाइश भी दी।
(TNS)