द्रौपदी मुर्मू 24 जून को राष्ट्रपति पद के लिए नामांकन दाखिल कर सकती हैं, पीएम मोदी के ट्रंप कार्ड से विपक्ष चारों खाने चित

तीरंदाज न्यूज, नई दिल्ली। भाजपा नीत एनडीए की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू 24 जून को नामांकन दाखिल कर सकती हैं। वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो रहा है। लगभग सभी केंद्रीय मंत्री, भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री और बीजू जनता दल (बीजद) जैसे दलों के प्रमुख नेताओं ने मुर्मू की उम्मीदवारी का समर्थन किया है। नामांकन के दौरान व्यापक समर्थन का संदेश भेजने के लिए भी मौजूद रहेंगे।

सूत्रों के मुताबिक, प्रधानमंत्री मोदी एनडीए उम्मीदवार मुर्मू के पहले प्रस्तावक हो सकते हैं। राष्ट्रपति चुनाव में, एक उम्मीदवार को 50 प्रस्तावकों और 50 समर्थकों द्वारा हस्ताक्षरित नामांकन पत्र दाखिल करना होता है। भाजपा सूत्रों के मुताबिक मुर्मू चार नामांकन पत्र दाखिल करेंगी।

16वें राष्ट्रपति चुनाव की प्रक्रिया के बारे में जानकारी देते हुए चुनाव आयोग ने कहा था कि इस शीर्ष संवैधानिक पद के लिए लड़ने के इच्छुक किसी भी व्यक्ति को प्रस्तावक के रूप में 50 सांसद, विधायक और 50 अन्य समर्थकों के रूप में चाहिए। इस कदम का उद्देश्य इस चुनाव से गैर-गंभीर उम्मीदवारों को बाहर करना है।

विपक्ष चारों खाने चित

विपक्ष के उम्मीदवार के रूप में सिन्हा के नाम की घोषणा हुई है। मगर, देश में पहली बार किसी आदिवासी महिला को राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में खड़ा करके पीएम मोदी ने विपक्ष को चारों खाने चित कर दिया है। आंकड़ों की बात करें तो वे मुर्मू के पक्ष में हैं, खासकर बीजद के समर्थन के बाद यह लगभग तय है कि मुर्मू देश के अगले राष्ट्रपति हो सकते हैं। अब उम्मीद है कि वाईएसआर कांग्रेस और अन्नाद्रमुक जैसे कुछ अन्य क्षेत्रीय दल भी उनका समर्थन करेंगे।

यह है राष्ट्रपति पद के चुनाव का कार्यक्रम

अगले राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान 18 जुलाई को होना तय है। राष्ट्रपति चुनाव के लिए नामांकन पत्र भरने की प्रक्रिया चल रहा है। 29 जून नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख है। खबर है कि विपक्षी उम्मीदवार यशवंत सिन्हा 27 जून को अपना नामांकन दाखिल कर सकते हैं।

बीजद ने कहा- ओडिशा की बेटी का करें समर्थन

बीजद ने एनडीए की ओर से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को अपना समर्थन देने का ऐलान किया है। नवीन पटनायक ने ट्वीट कर राज्य के सभी विधायकों और सांसदों से ओडिशा की बेटी को वोट देने की अपील की है। उन्होंने ट्वीट किया- मैं ओडिशा विधानसभा के सभी सदस्यों से पार्टी लाइन से ऊपर उठकर ओडिशा की बेटी द्रौपदी मुर्मू का समर्थन करने की अपील करता हूं। उसे देश के सर्वोच्च पद पर पदोन्नत करने के लिए चुनें।

यह है राष्ट्रपति पद के चुनाव का गणित

राष्ट्रपति चुनाव के गणित की बात करें तो कुल मतों का मूल्य 10,79,206 है। एनडीए को इस चुनाव में जीतने के लिए आधे से ज्यादा वोट यानी 5 लाख 40 हजार वोट चाहिए। अकेले बीजेपी के पास 4,59,414 वोट हैं।

इसके अलावा उसकी सहयोगी जदयू के मतों का मूल्य 22,485 और अन्नाद्रमुक का 15,816 है। इस प्रकार एनडीए के कुल मतों का मूल्य 4,97,715 है। एनडीए के पास महज 43 हजार वोटों की कमी है। बीजद की बात करें तो उसके वोटों का मूल्य 31,686 है।

वहीं, आंध्र प्रदेश की सत्तारूढ़ पार्टी वाईएसआर कांग्रेस के वोटों का मूल्य 43,450 है। उन्होंने समर्थन के संकेत भी दिए हैं। इसके अलावा विपक्ष में बंटवारे की भी स्थिति है, ऐसे में एनडीए की जीत मुश्किल नहीं दिख रही है।