ऊंट के मुंह में जीराः केंद्र ने दी 7.50 रुपए, तो छत्तीसगढ़ सरकार ने दी केवल 12 आने की राहत

इधर जब खुद की बारी आई और विपक्ष के साथ जनता ने राज्य से पेट्रोल और डीजल पर से टैक्स कम करने की मांग की। धरना-प्रदर्शन किया, तो दबाव बढ़ता देख भूपेश सरकार ने भी कैबिनेट बैठक ली। इस दौरान जनता में दिनभर राहत मिलने के कयास लगाते रहे, पर जब कैबिनेट का निर्णय आया, तो..

भिलाई (Bhilai)। पेट्रोल (Petrol) और डीजल (Diesel) की बढ़ती कीमतों पर केंद्र सरकार (central government) पर लगातार आरोप लगते रहे हैं। खासकर राजनीतिक दलों ने इस इंधन पर वैट (VAT) कम करने की बात पर हल्ला मचाते रहे। लगातार मांग करते रहे कि पेट्रोल और डीजल की कीमत कम की जाए। केंद्र सरकार ने पहल करते हुए वैट कम कर लगभग 7.50 रुपए की जनता को राहत दी। इस पर छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) सरकार (government) ने ऊंट के मुंह में जीरा की संज्ञा देकर लगातार केंद्र पर निशाना साधा था।

इधर जब खुद की बारी आई और विपक्ष के साथ जनता ने राज्य से पेट्रोल और डीजल पर से टैक्स कम करने की मांग की। धरना-प्रदर्शन किया, तो दबाव बढ़ता देख भूपेश सरकार ने भी कैबिनेट (cabinet) बैठक (meeting) ली। इस दौरान जनता में दिनभर राहत मिलने के कयास लगाते रहे, पर जब कैबिनेट (cabinet) का निर्णय (decision) आया, तो जीरा मुंह तक पहुंच ही नहीं पाया।

सोमवार को हुई राज्य सरकार की कैबिनेट में पेट्रोल और डीजल पर वैट कम करने के निर्णय हवा में उड़ गए। जैसे टंकी में पेट्रोल डालते समय कुछ अंश हवा में विलिन हो जाते हैं। निर्णय अनुसार पेट्रोल में राज्य सरकार ने लगभग 90 पैसे और डीजल में मात्र 1.48 रुपए की छूट दी है। ऐसे में कहा जाए जनता को कोई राहत नहीं मिली है। वहीं केंद्र ने 7.50 रुपए तक कीमत कम कर दिया था।

खुद की बारी आई तो जीरा पकड़ा दिया
पेट्रोल और डीजल पर राज्य सरकार के इस निर्णय को लेकर जनता सवाल कर रही है। दुर्ग इंदिरा मार्केट के व्यापारी जनक, वरूण सिन्हा, अनिल जिन ने कहा कि पेट्रोल पर केवल 90 पैसे की छूट और डीजल पर 1.48 रुपए ही छूट देकर सरकार क्या साबित करना चाहती है। या फिर जनता को बेवकूफ समझ रही (getting stupid) है। भिलाई के मिथले गंजीर, मनीषा रानी, मधु सिंह ने कहा केंद्र ने बड़ी राहत दी है, जब खुद की बारी आई तो राज्य ने जनता को जीरा पकड़ा दिया।

दूसरे राज्यों से भी सस्ता पेट्रोल-डीजल देने सीएम की सारी डींगें फिस्स
इस मामले पर भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) ने कहा है कि ये तो जनता के साथ मजाक है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष (State President) विष्णुदेव साय ने कहा है कि पेट्रोल और डीजल पर वैट घटाने के नाम पर राज्य की जनता के साथ भद्दा मजाक किया गया है। साय ने कहा है कि देश के अन्य राज्यों से भी सस्ता पेट्रोल और डीजल देने की मुख्यमंत्री (Chief Minister) भूपेश बघेल की सारी डींगें बेनकाब हो गई है।

..जारा भी शर्म महसूस नहीं की
साय ने कहा कि महंगाई के नाम पर मिथ्या प्रलाप करके देश-प्रदेश को भ्रमित करने में लगे कांग्रेस नेता और मुख्यमंत्री बघेल ने जनता को राहत पहुंचाने की अपनी बारी आने पर अपनी घोर जनविरोधी राजनीतिक चरित्र का प्रदर्शन करने में जारा भी शर्म महसूस नहीं किया।

करतूत औऱ धोखाधड़ी छिपाने प्रतिशत में छूट घोषित की
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष साय ने आगे कहा कि पेट्रोल और डीजल में वैट घटाने के नाम पर प्रदेश सरकार ने जनता के साथ सरासर धोखा किया है। पिछले तीन साल से धोखाधड़ी करती आ रही सरकार ने पेट्रोल में 12 आने ले लेकर 1 रुपए तक और डीजल में सवा रुपए से डेढ़ रुपए तक ही छूट दी है। सरकार ने अफनी करतूत औऱ धोखाधड़ी छिपाने के लिए वैट में कटौती जान-बूझकर प्रतिशत में घोषित की है।

(TNS)