तीसरी लहर के बाद छत्तीसगढ़ में पहली बार कोरोना 100 के पार, अब इतने हुए सक्रिय मरीज

रायपुर। छत्तीसगढ़ में लगातार कोरोना (Corona) बढ़ रहा है। स्वास्थ्य विभाग (Health Department) के जारी आंकड़ों के मुताबिक प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 131 नए मरीज मिले, जिसमें सबसे ज्यादा रायपुर में 29 पॉजिटिव मिले हैं। फरवरी 2022 के बाद एक दिन में यहां सौ से अधिक मरीज नहीं मिले थे। इस संख्या बढ़ने ने स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ गई है। 

दरअसल, तीसरी लहर के दौरान फरवरी के बाद एक दिन में सौ से ज्यादा केस आए हैं। नए संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही सक्रिय यानी इलाजरत् मरीजों की संख्या 585 हो गई है। रायपुर के बाद दुर्ग में भी कोरोना मरीज बढ़ने लगे हैं। राहत की बात है कि हल्के लक्षण वाले मरीजों की संख्या ज्यादा है और कोरोना की वजह से किसी भी की मौत नहीं हुई। चार-पांच दिन पहले कोरोना की वजह से अंबेडकर अस्पताल में भर्ती मरीज डिस्चार्ज कर दिया गया है।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार पिछले 24 घंटे में 9394 लोगों की कोरोना जांच की गई। इसमें से राज्य के 21 जिलों में 131 नए संक्रमित मिले। संक्रमण दर 1.39 प्रतिशत रहा। रायपुर में सर्वाधिक 29 कोरोना के मरीज मिले। पिछले कुछ दिनों से राजधानी में कोरोना मरीजों की संख्या 15 से ज्यादा रही है। इसी तरह अब दुर्ग में भी कोरोना के मामले बढ़ने लगे हैं। यहां 21 मरीज मिले। सरगुजा में 16 और कोरिया में 11 नए संक्रमित मिले। अन्य जिलों में नए मरीजों की संख्या दस से कम रही। जानकारों ने बताया कि पहली व दूसरी लहर में दुर्ग व राजनांदगांव में सबसे पहले केस बढ़े थे। दुर्ग में फिर कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ रही है। यह चिंता की बात है। अफसरों का कहना है कि टेस्टिंग बढ़ाई गई है। अस्पतालों में कोरोना की जांच की जा रही है। इसके अलावा कोरोना जांच के कुछ सेंटर भी बनाए गए हैं।

कोरोना कमेटी के सदस्य डॉ. ओपी सुंदरानी के अनुसार रायपुर समेत राज्य में नए कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ रही है। नए मरीजों की संख्या बढ़ना यह बताता है कि पॉजिटिविटी रेट बढ़ रहा है। हालांकि, अभी यह ज्यादा नहीं है। इसलिए इसे खतरा नहीं माना जा सकता। लेकिन सावधानी नहीं बरती गई तो वो स्थिति आने में भी समय नहीं लगेगा जिससे परेशानी हो। इसलिए लक्षण दिखने पर जांच कराएं। मास्क पहने और टीका जरूर लगावाएं।

अभी चौथी लहर नहीं, लेकिन सावधानी जरूरी

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार कोरोना के नए मरीजों की संख्या बढ़ रही है। लेकिन अभी इसे चौथी लहर नहीं कहा जा सकता। सावधानी रखना जरूरी है। मास्क पहने और बूस्टर डोज लगवाएं। महाराष्ट्र, उड़ीसा व दिल्ली में केस बढ़े हैं। इसलिए अभी दूसरे राज्यों में जाने से बचे। खान-पान पर विशेष ध्यान दें।