कुन्नूर हेलीकॉप्टर क्रैश: एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह के नेतृत्व में हादसे की जांच शुरू

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आज लोकसभा ने जानकारी दी कि हेलीकॉप्टर दुर्घटना की जांच एयर ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ( ट्रेनिंग कमांड) एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह करेंगे। बुधवार को ही जांच टीम वेलिंगटन पहुंच गई है और जांच शुरू कर दी है।

 

नई दिल्ली (New Delhi)। देश के पहले सीडीएस CDS जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधूलिका और सशस्त्र बलों के 11 जवानों की मौत की खबर के बाद पूरा देश शोक में है। बुधवार को तमिलनाडु में हुए हृदयविदारक हेलिकॉप्टर हादसा (Helicopter Crash) पूरे देश को हिला दिया है। इस घटना की जांच की जा रही है। बुधवार को ही जांच टीम वेलिंगटन पहुंच गई है। एयर मार्शल (Air Marshal) मानवेंद्र सिंह के नेतृत्व में जांच (Investigation) शुरू कर दी गई है।

आपको बता दें कि एयर मार्शल (Air Marshal) मानवेंद्र सिंह ने इस साल एक फरवरी को भारतीय वायु सेना की दक्षिणी वायु कमान के प्रमुख का कार्यभार संभाला था। उसके बाद सितंबर में एयर ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ का पद संभाला था।

केंद्रीय रक्षा मंत्री ने लोकसभा में दी जानकारी
केंद्रीय रक्षा मंत्री (Union Defense Minister) राजनाथ सिंह ने आज लोकसभा (Lok Sabha) ने जानकारी दी कि हेलीकॉप्टर दुर्घटना की जांच एयर ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ( ट्रेनिंग कमांड) एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह करेंगे। बुधवार को ही जांच टीम वेलिंगटन (Wellington) पहुंच गई है और जांच शुरू कर दी है। इस हेलीकॉप्टर हादसे में भारत के पहले सीडीएस जनरल विपिन रावत और उनकी पत्नी समेत 13 लोगों की मौत हो गई थी। आइए जानते हैं कौन हैं एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह और क्या है इनकी उपलब्धि.

एक फरवरी को दक्षिणी वायु कमान प्रमुख का कार्यभार संभाला था
एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह को 29 दिसंबर 1982 को हेलीकॉप्टर पायलट (helicopter pilot) के रूप में भारतीय वायु सेना की फ्लाइंग ब्रांच में शामिल किया गया था। इसके बाद उन्हें कई अहम जिम्मेदारियां दी गई थीं। एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह ने इसी साल एक फरवरी को भारतीय वायु सेना की दक्षिणी वायु कमान (southern air command) के प्रमुख का कार्यभार संभाला था इसके बाद सितंबर में उन्हें एयर ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ (ट्रेनिंग कमांड) की जिम्मेदारी दी गई थी। अब हेलीकॉप्टर हादसे की जांच सौंपी गई है।

6600 घंटे का फ्लाइट रिकॉर्ड है एयर मार्शल मानवेंद्र का
एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह के नाम कई रिकॉर्ड भी हैं। इनमें से एक है 6600 घंटे से भी अधिक का उड़ान अनुभव। वहीं वे 1 नवंबर 2019 को वायुसेना मुख्यालय में महानिदेशक (निरीक्षण और सुरक्षा) पद का कार्यभार संभाला था। लगभग चालीस साल की सेवा में एयर ऑफिसर ने कई प्रकार के जटिल हेलिकॉप्टर और प्रशिक्षण विमान उड़ाए हैं। उन्होंने सियाचिन, उत्तर पूर्व उत्तराखंड, पश्चिमी मरूस्थल और कांगो लोकतांत्रिक गणतंत्र में उड़ान भरी है।

कई अहम जिम्मेदारी निभा चुके हैं मानवेंद्र सिंह
एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह एक शानदार फ्लाइंग इन्स्ट्रक्टर भी हैं। 40 साल के दौरान उन्हें कई महत्वपूर्ण पदों की जिम्मेदारी दी जा चुकी है। उन्हें ऑपरेशनल हेलिकॉप्टर युनिट का कमांडिंग ऑफिसर भी बनाया जा चुका है। जिसके बाद वह एक अग्रिम हेलिकॉप्टर अड्डे के स्टेशन कमांडर बनाए गए। वे अति विशिष्ट सेवा मेडल, वीर चक्र औऱ विशिष्ट सेवा मेडल से सम्मानित किए जा चुके हैं।

(TNS)