कर्नाटक में चमके छत्तीसगढ़ के पावर लिफ्टर, संतोषी मांझी ने दिलाया पहला स्वर्ण पदक

सीनियर राष्ट्रीय पावर लिफ्टिंग प्रतियोगिता बेंगलुरु में 27 से 30 अप्रैल 2022 तक आयोजित की गई, जिसमें छत्तीसगढ़ के पावर लिफ्टरों ने किया शानदार प्रदर्शन।

संतोषी मांझी ने दिलाया पहला स्वर्ण पदक

भिलाई। कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में आयोजित सीनियर राष्ट्रीय पावर लिफ्टिंग प्रतियोगिता में छत्तीसगढ़ पॅवर लिफ्टरों ने शानदार प्रदर्शन किया है। इस प्रतियोगिता में भिलाई की अंतराष्ट्रीय महिला खिलाड़ी संतोषी मांझी ने छत्तीसगढ़ को गोल्ड दिलाया है। वहीं इनके प्रयास से छत्तीसगढ़ को ओवरऑल कांस्य पदक मिला है। टीम की सफलता पर कोच मैनेजर सहित प्रदेश के खेल संघों ने इन्हें बधाई दी है।

बता दें सीनियर राष्ट्रीय पावर लिफ्टिंग प्रतियोगिता बेंगलुरु में 27 से 30 अप्रैल 2022 तक आयोजित की गई। आज प्रतियोगिता का अंतिम दिन है। तीन दिनों से चल रही सीनियर राष्ट्रीय पावर लिफ्टिंग प्रतियोगिता के दूसरे दिन 29 अप्रैल को भिलाई की अंतराराष्ट्रीय खिलाड़ी संतोषी मांझी ने 63 किलो वजन समूह में 175 किलो वजन डेड लिफ़्ट कर छत्तीसगढ़ राज्य को पहला स्वर्ण पदक दिलाया।

इसके अलावा इन्होंने स्क्वाट में 175 किलो, बेंचप्रेस में 80 किलो और डेड लिफ़्ट में 175 किलो  तीनो इवेंट में कुल  430 किलो लिफ़्ट कर कांस्य पदक प्राप्त किया। संतोषी मांझी ने अपने प्रयास से पूरी छत्तीसगढ़ टीम का नाम रोशन कर दिया। बता दें संतोषी मांझी को शहीद राजीव पाण्डेय अवार्ड व गुंडाधुर अवॉर्ड से सम्मानित किया जा चुका है।

टीम के कोच कृष्णा साहू ने बताया कि आठ सदस्यीय छत्तीसगढ़ पॉवर लिफ़्टिंग टीम में 4 महिला और 4 पुरुष तथा कोच और मैनेजर सहित कुल दस सदस्य शामिल हैं। प्रतियोगिता के अंतिम दिन खेल समाप्त होने तक जेबा मोहन और आसिफ़ से पदक जीतने की बहुत उम्मीद है। देर रात तक इसके परिणाम सामने आएंगे। टीम के कोच, अंतर राष्ट्रीय खिलाड़ी और निर्णायक कृष्णा साहू और दल प्रबंधक व निर्णायक के रूप में नस्कर टण्डन के प्रयास से संतोषी माझी ने यह उपलब्धि प्राप्त की है।