BREAKING: 11 साल से जेल में बंद कैदी दूसरी बार भागा, इलाज के दौरान मौके का लाभ उठाया

पुणे नासिक निवासी कैदी चोरी के ट्रकों को काटवाकर तुकड़े-तुकड़े करवा देता था। तिल्दा नेवरा थाना इलाके से उसे गिरफ्तार किया गया था। इसी के अपराध में पिछले 11 साल से रायपुर सेंट्रल जेल में बंद था।

रायपुर(raipur)। चोरी के आरोप में 11 साल से जेल में बंद कैदी(prisoner) दूसरी बार भागने में सफल हो गया है। इस बार भी निगरानी में तैनात पुलिस जवानों(police personnel) की लापरवाही सामने आई है।

जानकारी अनुसार छत्तीसगढ़(chhattisgarh) के सबसे बड़े अम्बेडकर अस्पताल(ambedkar hospital) में आरोपी गुरुमुख सिंह उर्फ बिल्ला को इलाज के लिए लाया गया था। इसी दौरान मौके का लाभ उठाते हुए केजुअल्टी वार्ड(casualty ward) से हथकड़ी समेत फ़रार हुआ है। मौदहापारा थाने (Maudapara Police Station) में मामला दर्ज कर पुलिस फरार कैदी की तलाश में जुटी है।

मिली जानकारी के मुताबिक पुणे नासिक निवासी कैदी चोरी के ट्रकों को काटवाकर तुकड़े-तुकड़े करवा देता था। तिल्दा नेवरा थाना इलाके से उसे गिरफ्तार किया गया था। इसी के अपराध में पिछले 11 साल से रायपुर सेंट्रल जेल में बंद था।

घटना में निगरानी में रखे जवानों की लापरवाही सामने आई है। फरार कैदी का इलाज जेल प्रहरी संतोष साहू की निगरानी में चल रहा था। ऐसे में राज्य के सबसे बड़े सरकारी अम्बेडकर अस्पताल की सुरक्षा व्यवस्था पर एक बार फिर सवाल उठा है।

पहले भी फरार हुआ था कैदी

कैदी गुरुमुख सिंह इसके पहले भी एक बार फरार हो चुका था। उस दौरान उसे रायपुर जिला कोर्ट में पेशी के लिए लाया गया था, लेकिन आरोपी पुलिस को चकमा देकर भागने में सफल हुआ था। इस घटना के बाद रायपुर एसपी एक्शन मोड में नजर आ रहे हैं। लापरवाही के मद्देनजर दो पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया था।
(TNS)