प्रदेश में बीए. बीएड और बीएससी. बीएड अगले सत्र से हो सकता है शुरू

बीएससी. बीएड

रायपुर। कोरोना संक्रमण (Corona Infection) कम होते ही प्रदेश में पढ़ाई भी तेजी से शुरू हो गई है। इसी तरह पं.रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय (Pt. Ravishankar Shukla University) अध्ययनशाला व उससे संबद्ध कॉलेजों में अगले साल से बीए.बीएड (B.A.Ed) व बीएससी.बीएड ( B.Sc.B.Ed) की पढ़ाई शुरू हो सकती है। इसके लिए विश्वविद्यालय से तैयारी की जा रही है। वर्तमान समय में यहां बीए का दो वर्षीय पाठ्यक्रम है। यह भी चलता रहेगा। लेकिन इसके अलावा बीए.बीएड व बीएससी.बीएड के नाम से नया कोर्स भी शुरू होगा। इस कोर्स की अवधि चार वर्षों की होगी।

बीए.बीएड (B.A.Ed) व बीएससी.बीएड ( B.Sc.B.Ed)की मान्यता की नेशनल काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन यानी एनसीटीई से मिलती है। रविवि समेत राज्य के विश्वविद्यालय इस मान्यता के आधार पर कॉलेजों को संबद्धता प्रदान करते हैं। इसलिए विवि में यह तैयारी की जा रही है कि यदि एनसीटीई से किसी कॉलेज को बीए.बीएड व बीएससी.बीएड की मान्यता मिलती है तो फिर जल्द ही संबंद्धता दे दी जाए। इसके लिए ऑडिनेंस में संशोधन की तैयारी की जा रही है। अभी राज्य में दुर्ग विश्वविद्यालय से जुड़े दो कॉलेज व सरगुजा विवि से जुड़े एक कॉलेज में बीए.बीएड और बीएससी.बीएड का कोर्स चल रहा है।

विवि के अफसरों का कहना है कि अभी यहां दो वर्षीय बीएड की पढ़ाई होती है। नया कोर्स लागू करने के लिए विवि के ऑडिनेंस में संशोधन करना होगा। संभावना है कि कुछ महीने में सारी प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। सब कुछ ठीक रहा तो इसके अनुसार अगले सत्र से बीए.बीएड व बीएससी.बीएड का कोर्स लागू हो सकता है।

TNS