सहायक शिक्षकों की हड़तालः बच्चों की पढ़ाई प्रभावित, हेडमास्टरों के सिर पर बच्चों की क्लास

स्कूलों में शिक्षक नहीं होने से मजबूरी में स्कूल संचालन की जिम्मेदारी हेडमास्टरों के जम्मे आ गई है। उन्हें बच्चों की क्लास लेनी पड़ रही है। हेडमास्टर का कहना है कि पहली से पांचवीं तक के बच्चों को वो ही पढ़ा रही हैं।

 

रायपुर। दो सप्ताह से वेतन विसंगति को लेकर सहायक शिक्षकों की हड़ताल राजधानी में जारी है। जहां प्रेदेशभर से हजारों की संख्या में सहायक शिक्षक पहुंचे हैं। ऐसे में स्कूलों में बच्चों को पढ़ाई पूरी तरह ठप हो गई है। शिक्षा विभाग व्यवस्था करने की कोशिश में लगा हुआ है, पर स्थिति संभल नहीं पा रही है।

इस वजह से हड़ताल से छत्तीसगढ़ के लगभग सभी जिलों के प्राइमरी स्कूलों की पढ़ाई प्रभावित है। बच्चे स्कूल आ रहे हैं और मध्याह्न भोजन कर धमाचौकड़ी कर रहे हैं। ऐसा ही एक मामला रायपुर के खपरा भट्टी शासकीय स्कूल का सामने आया है। जहां बच्चों को पढ़ाने के लिए एक भी शिक्षक नहीं है।

सभी क्लास लेनी होती है
स्कूलों में शिक्षक नहीं होने से मजबूरी में स्कूल संचालन की जिम्मेदारी हेडमास्टरों के जम्मे आ गई है। उन्हें बच्चों की क्लास लेनी पड़ रही है। मामले में हेडमास्टर का कहना है कि पहली से पांचवीं तक के बच्चों को वो ही पढ़ा रही हैं। सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक स्कूल का समय निर्धारित किया गया है। ऐसे में पांचों क्लास के बच्चों को पढ़ाना परेशानी भरा है। उन्होंने बताया कि उस समय ज्यादा परेशानी होती है जब लंच का समय हो, क्योंकि इन्हें मध्याह्न भोजन कराना होता है।

लगातार हो रही परेशानी
एचएम इंदु सिंह ने बताया शिक्षकों की कमी के कारण परेशानी आ रही है। लगभग 10 दिनों से काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, शिक्षकों से बातचीत करने की कोशिश की जा रही है। वे हड़ताल से लौटने को तैयार ही नहीं हैं।

(TNS)