90 दिन का था वादा, तीन साल बीत गए, वेतन विसंगति दूर करने सहायक शिक्षक अनिश्चितकालीन आंदोलन पर

अध्यक्ष बैरागी ने कहा प्रदेश के मुखिया की बातों को अधिकारी महत्व नहीं दे रहे हैं या अधिकारी मुख्यमंत्री की बातों को नजर-अंदाज कर रहे हैं। संगठन मंत्री राजेंद्र टांडेश, अनिल साहू अंकेक्षक, संतोष बांधव, महेश सोन ने बताया कि कमेटी की कार्यप्रणाली से नाराज होकर सहायक शिक्षक अनिश्चितकालीन आंदोलन में जाने के लिये मजबूर हैं।

 

रायपुर। चुनाव से पहले किए वादे पर कांग्रेस सरकार अब तक पहल नहीं कर पाई, इससे स्कूलों के सहायक शिक्षक खासे नाराज हैं। सरकार बनने के बाद 90 दिवस का वादा था, पर सरकार के तीन साल पूरे होने के बाद भी लंबित मांग अधर में है। मांग को लेकर अब सहायक शिक्षक अनिश्चितकालीन आंदोलन पर रावणभाठा मैदान में बैठ गए हैं। प्रदेशभर के 109000 सहायक शिक्षक इसका समर्थन कर रहे हैं।

बता दें कि सहायक शिक्षक अपनी मांग को लेकर पहले अलग-अलग जिला मुख्यालय के बाद ब्लॉक मुख्यालयों में भी धरना दिए। जहां कलेक्टर के साथ शिक्षा विभाग के अधिकारियों को ज्ञापन सौंपा गया। उसके बाद भी मांग पर कोई सुनवाई नहीं होने पर अब वे राजधानी में धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं।

कांग्रेस ने चुनाव में किया था वादा
समिति के अध्यक्ष शशिकांत बैरागी ने बताया कि कांग्रेस ने चुनाव के दौरान घोषणा पत्र में सहायक शिक्षकों की वेतन विसंगति को दूर करने का वचन दिया था, किंतु 3 साल के बाद भी कोई पहल नहीं की गई। अब छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन के बैनर तले प्रदेश के 109000 सहायक शिक्षक अपनी एक सूत्री मांग वेतन विसंगति के मुद्दे पर अनिश्चितकालीन आंदोलन पर चले गए हैं।

पहले ब्लॉक मुख्यालयों में दिया धरना
संघ के मीडिया प्रभारी गजानंद सोन ने बताया संघ के प्रांतीय आह्वान पर ब्लॉक शाखा नगरी के सभी सहायक शिक्षक पहले ब्लॉक मुख्यालय में धरना प्रदर्शन में भाग लिए। आंदोलन संचालन समिति के अध्यक्ष शशिकांत बैरागी ने बताया कांग्रेस ने सहायक शिक्षकों की वेतन विसंगति को दूर करने का वचन दिया था, किंतु आज 3 साल बीत जाने के बाद भीकोई पहल नहीं की गई। मुख्यमंत्री ने बताया था कि वेतन विसंगति को 90 दिवस में दूर करने कमेटी गठित की गई। परंतु खेदहै कि कमेटी के पदेन अध्यक्ष व समिति तीन माह बाद भीरिपोर्ट नहीं सौंपी।

सीएम की बातों को अधिकारी महत्व नहीं दे रहे हैं या फिर..
अध्यक्ष बैरागी ने कहा प्रदेश के मुखिया की बातों को अधिकारी महत्व नहीं दे रहे हैं या अधिकारी मुख्यमंत्री की बातों को नजर-अंदाज कर रहे हैं। संगठन मंत्री राजेंद्र टांडेश, अनिल साहू अंकेक्षक, संतोष बांधव, महेश सोन ने बताया कि कमेटी की कार्यप्रणाली से नाराज होकर सहायक शिक्षक अनिश्चितकालीन आंदोलन में जाने के लिये मजबूर हैं।

छत्तीसगढ़ सर्व शिक्षक कल्याण संघ का समर्थन
सहायक शिक्षक फेडरेशन के अनिश्चितकालीन हड़ताल का हमारा संघ छत्तीसगढ़ सर्व शिक्षक कल्याण संघ बिना किसी शर्त के समर्थन कर रहा है। हमारा संगठन पहले से ही वेतन विसंगति दूर करवाने के लिये प्रयासरत रहा है। छत्तीसगढ़ सर्व शिक्षक कल्याण संघ के प्रान्ताध्यक्ष भूपेन्द्र सिंह बनाफर ने भी कहा है कि हमारा अपील है कि अन्य संघ जो इस हड़ताल में शामिल नहीं हैं उनसे बी यही अपील करते हैं कि एकता के साथ सभी सहायक शिक्षक अनिश्चितकालीन हड़ताल में साथ आवें।

बालोद जिला संघ भी साथ है
वेतन विसंगति दूर करने को लेकर बालोद जिले के सहायक शिक्षक फेडरेशन भी मांग का साथ दे रहे हैं। पिछले दिनों बड़ी संख्या में शिक्षकों ने बालोद जिला मुख्यालय स्थित नए बस स्टैंड में जिला स्तरीय धरना प्रदर्शन किया। जहां मांगों को पूरा करने जमकर नारेबाजी की। इस दौरानप्राइमरी स्कूलों में पढ़ाई प्रभावित हुई। रविवार अवकाश के दिन भी जिला स्तरीय धरना प्रदर्शन जारी रखा गया है।

(TNS)