इंजीनियरिंग की 64 फीसद सीटें खाली, बिना प्रवेश परीक्षा के दाखिले का मिल रहा मौका

रायपुर। प्रदेश में इंजीनियरिंग, फार्मेसी व पॉलिटेक्निक कोर्स में काउंसिलिंग की प्रक्रिया पूरी होने के बाद भी 64 फीसदी सीटें खाली हैं। ऐसे में अब स्पाट राउंड के तहत दाखिले की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। इसमें पहले चरण की मेरिट सूची बुधवार को जारी की गई, जिसके लिए इंजीनिरंग में 715, फार्मेसी में 725, पॉलिटेक्निक में 414 आवेदन मिले। मेरिट के आधार पर इन्हें दाखिले के लिए 25 नवंबर गुरुवार का ही समय दिया गया है।

इसके बाद दूसरे चरण के स्पाट राउंड दाखिले की प्रक्रिया के पंजीयन के लिए 26 और 27 नवंबर का समय दिया गया है, जिसकी मेरिट सूची 28 नवंबर को जारी की जाएगी। वहीं, 29 और 30 नवंबर की भर्ती के लिए आखिरी मौका होगा। इसके बाद किसी तरह के दाखिले की प्रक्रिया नहीं होगी।

उधर, डिप्लोमा इंजीनियरिंग यानी पॉलिटेक्निक की 7,890 सीटों में से 5,548 सीटें खाली हैं। इस तरह देखें तो दोनों चरणों के स्पाट राउंड के बाद भी करीब 60 फीसद सीटें खाली रहने का अनुमान है। यानी 40 फीसद तक सीटें ही भर पाएंगी। इस स्थिति को देखते हुए अधिक से अधिक सीटें भरने के लिए इस बार उच्च शिक्षा विभाग ने बिना प्रवेश परीक्षा दिए सीधे दाखिले के लिए शामिल होने का मौका छात्रों को दिया है।

बताते चलें कि राज्य में इंजीनियरिंग की कुल 11,291 सीटें हैं, जिसमें से 7,045 खाली हैं। अन्य विषयों की बात करें, तो डी फार्मेसी में कुल 2,741 सीटों में से 247 खाली हैं। बी फार्मेसी की कुल 3,192 सीटों में 662 खाली, पॉलिटेक्निक की 7,870 सीटों में से 5,548 खाली, एमबीए की 1,155 सीटों में 499 खाली, एमसीए की 407 में 164 सीटें खाली, एम टेक की 1,360 सीटों में से 1042 खाली और एम फार्मेसी की कुल 314 सीटों में से 98 खाली हैं।

(TNS)