आयोजनः भिलाई IIT में पहला दीक्षांत समारोहः 287 छात्रों को मिली उपाधि

समारोह में 2 पीएचडी, 15 एमएससी, 39 एमटेक, 32 बीटेक (ऑनर्स) और 199 बीटेक स्नातक स्टूडेंट्स को उपाधि प्रदान की गई। कोविड के खतरे को ध्यान में रखते हुए आयोजन सादा रखा गया था।

दुर्ग (Durg)। छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) आईआईटी भिलाई (Bhilali) में पहला दीक्षांत समारोह (First Convocation) का आयोजन किया गया। जहां डायरेक्टर (director) प्रो. रजत मूना ने 287 विद्यार्थियों (students) को उपाधि (Degree) प्रदान किए। इस दौरान सभी आयोजन सामान्य रखा गया।

समारोह में 2 पीएचडी, 15 एमएससी, 39 एमटेक, 32 बीटेक (ऑनर्स) और 199 बीटेक स्नातक स्टूडेंट्स को उपाधि प्रदान की गई। कोविड के खतरे को ध्यान में रखते हुए आयोजन सादा रखा गया था। इसलिेए इसमें केवल छात्रों को ही आमंत्रित किया गया था।

कोविड के कारण सादा रहा समारोह
आईआईटी भिलाई के पहले दीक्षांत सादे समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में डीएसआईआर के सचिव (Secretary) और सीएसआई के महानिदेशक (Director General) डॉ. शेखर सी. मंडे मौजूद रहे। इस दौरान शैक्षणिक जुलूस और सरस्वती वंदना के बाद, कृष्णमूर्ति वेंकटरमन, अध्यक्ष, बीओजी, आईआईटी भिलाई ने समारोह के उद्घाटन की घोषणा की।

गिनाई पांच साल की उपलब्धियां (Achievements)

आयोजन के दौरान प्रो. रजत मूना ने पिछले पांच वर्षों में संस्थान के तेजी से विकास की जानकारी दी। इसके समावेशी और विविध शैक्षणिक वातावरण का जिक्र किया। इसमें रिकॉर्ड 23% छात्राओं के प्रवेश से लेकर ईडब्ल्यूएस आरक्षण का सफल कार्यान्वयन शामिल है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी और हमारे अस्थायी परिसर से संचालन की चुनौतियों के बावजूद, हमने अपनी आकांक्षाओं से एक कदम आगे रखने के लिए अपने बुनियादी ढांचे में वृद्धि की है।
(TNS)