बीजापुर में एक साल से बारह सौ मजदूरों को नही किया गया डेढ़ करोड़ का भुगतान

बीजापुर। बांस काटने वाले मजदूर वर्षों से अपनी मजदूरी पाने के लिए चक्कर काट रहे हैं, लेकिन प्रशासन उनके मेहनताने का भुगतान नहीं कर रहा है। इसकी बजाय मजदूरों को सिर्फ आश्वासन दिया जा रहा है कि उनको जल्द ही उनकी मजदूरी के पैसे मिल जाएंगे। इस बात की जानकारी पूर्व मंत्री महेश गागड़ा को मिलने पर वह मजदूरों के हित में खड़े हो गए और उन्होंने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर आंदोलन करने की चेतावनी दी है। पूर्व वन मंत्री महेश गागड़ा ने कहा है कि एक वर्ष पूर्व मट्टीमरका, बंदेपारा, सोमनपल्ली, उल्लूर, दमपाया, इंद्रावती इन क्षेत्र के छह कूपों से बांस की कटाई मजदूरों से कराई गई थी।

मगर, उनकी मजदूरी का भुगतान आज तक नहीं किया गया है। मजदूर विधायक और डीएफओ के चक्कर काट रहे हैं परंतु अब तक आश्वासन में लटकाया गया है। मजदूरी न मिलने के चलते मजदूर परेशान हैं, संबंधित विभाग अविलंब भुगतान करें। जिला प्रशासन इस विषय को जल्द संज्ञान में लें।

उन्होंने कहा कि भुगतान जल्द नही होने की स्तिथि में मजदूरों के साथ वह भी आंदोलन करने को बाध्य होंगे। पूर्व मंत्री महेश गागड़ा ने आगे कहा है कि क्षेत्रीय विधायक को 12 सौ मजदूरों की कोई चिंता नही है, इसलिए मजदूरों की शिकायत के बावजूद भी कोई गंभीरता नही दिखाई जा रही है। ऐसे में क्यों न माना जाए विधायक की प्रशासन के साथ समन्वय नहीं है।

प्रशासन मजदूरों का एक करोड़ 50 लाख रुपये का भगतान जल्द करे। चूंकि सभी ग्रामीण मजदूर हैं भुगतान को लेकर चिंतित हैं। बहुत से लोगों की आय मजदूरी से ही होती है, जिसे वर्षों तक लटकाकर रखना ठीक नहीं है।